अपना शहर चुनें

States

गुजरात ने ड्रैगन फ्रूट का नाम बदलकर "कमलम" किया, ट्विटर का सवाल- क्या अगला नंबर केले का है

गुजरात सरकार की दलीलों का हवाला देकर ट्विटर यूजर्स ने पूछा कि क्या अगला नंबर केले का है? Image credit: Reuters/Twitter
गुजरात सरकार की दलीलों का हवाला देकर ट्विटर यूजर्स ने पूछा कि क्या अगला नंबर केले का है? Image credit: Reuters/Twitter

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी (Vijay Rupani) ने समझाते हुए कहा कि ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) का नाम उसके आकार को देखते हुए कमलम रखा गया है. कमल का संस्कृत शब्द कमलम है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 20, 2021, 5:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. गुजरात (Gujarat) की बीजेपी सरकार (BJP Government) के एक फैसले ने ट्विटर पर एक अजीब ट्रेंड को हवा दे दी. दरअसल मुख्यमंत्री विजय रूपाणी (Vijay Rupani) ने मंगलवार को कहा कि राज्य में ड्रैगनफ्रूट को अब कमलम के नाम से जाना जाएगा. रूपाणी के मुताबिक ड्रैगनफ्रूट का बाहरी आकार कमल जैसा है, कमल के लिए संस्कृत में कमलम शब्द है. इसे संयोग ही कहेंगे कि राज्य में बीजेपी के पार्टी मुख्यालय का नाम 'श्री कमलम' है और पार्टी का चुनाव चिह्न भी कमल है. रूपाणी ने कहा कि हमने ड्रैगनफ्रूट को कमलम बुलाए जाने के लिए पेटेंट का आवेदन किया है, लेकिन अभी गुजरात सरकार ने फैसला किया है ड्रैगनफ्रूट को कमलम कहा जाएगा.

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि ड्रैगन शब्द फल को अच्छे से परिभाषित नहीं करता था और नाम बदलने का फैसला राजनीति से प्रेरित नहीं है. राज्य सरकार द्वारा ड्रैगन फ्रूट का नाम बदलने के बाद ट्विटर पर प्रतिक्रियाओं की बाढ़ आ गई. हजारों की संख्या में लोग मीम्स और जोक्स शेयर करने लगे और कुछ जोक हंसाकर लोट पोट कर देने वाले थे, लेकिन इनमें से एक अजीब ट्रेंड था "बनाना", जैसे ही बुधवार को गुजरात सरकार के फैसले की खबर वायरल हुई, ट्विटर पर ''बनाना'' ट्रेंड करने लगा. गुजरात सरकार की दलीलों का हवाला देकर ट्विटर यूजर्स ने पूछा कि क्या अगला नंबर केले का है?

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि ड्रैगन फ्रूट के नाम से किसी को भी अचरज नहीं होना चाहिए, क्योंकि कैक्टस के स्वरूप में ये फल देश में उगता रहा है, इसलिए किसी को भी कमलम नाम से आश्चर्यचकित नहीं होना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज