अपना शहर चुनें

States

गुजरातः कोरोना काल में पैकेजिंग इंडस्ट्री पर मंदी की मार, करोड़ों का कारोबार आधा हुआ

कोरोना वायरस संक्रमण के चलते लॉकडाउन में घर लौटे 30 फीसद मजदूर अभी काम पर नहीं लौटे हैं. प्रतीकात्मक तस्वीर
कोरोना वायरस संक्रमण के चलते लॉकडाउन में घर लौटे 30 फीसद मजदूर अभी काम पर नहीं लौटे हैं. प्रतीकात्मक तस्वीर

सूरत बॉक्स पैकेजिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष दिनेश शर्मा ने कहा कि अगर पुराना पेमेंट नहीं आया तो कारोबार करना मुश्किल हो जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 26, 2020, 10:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के चलते बर्बाद हुए कारोबार अब धीरे-धीरे पटरी पर आने लगे हैं. लेकिन, साड़ी पैकेजिंग इंडस्ट्री अभी भी मंदी की मार से उबर नहीं पा रही है. बॉक्स पैकेजिंग इंडस्ट्री को रद्दी पेपर न मिलने और रॉ मैटेरियल महंगा होने से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. कोरोना काल (Coronavirus) में स्कूल और कॉलेज बंद बंद होने से रद्दी कागज भी मुश्किल से मिल रहा है. कच्चे माल की कमी से मिलों में उत्पादन बंद करने की नौबत आ गई है.

वहीं लॉकडाउन (Lockdown) के चलते गांव-घर लौटे मजदूरों में से 30 फीसदी अभी अपने गांव भी नहीं लौटे हैं. बॉक्स इंडस्ट्री में अधिकतर श्रमिक उत्तर प्रदेश, बिहार, ओड़िशा और बंगाल से आते हैं. पहले कच्चा माल बड़ी मात्रा में आयात किया जाता था, लेकिन अब आयात भी 20 से 30 फीसदी हो गया है. यही कारण है कि सालाना 1000 से 1200 करोड़ का टर्नओवर वाले बॉक्स इंडस्ट्री का टर्नओवर घटकर आधा हो गया है. सूरत शहर में 100 से 125 बॉक्स पैकेजिंग इकाइयां हैं.

हालात को देखते हुए सूरत बॉक्स पैकेजिंग एसोसिएशन के पदाधिकारियों और सदस्यों ने सर्वसम्मति से भाव बढ़ाने का निर्णय लिया है. एसोसिएशन का कहना है कि 15 से 20 फीसदी भाव बढ़ाकर ऑर्डर लिए जा रहे हैं.



कच्चे माल के दाम में 15 से 20 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी से कास्ट कटिंग डबल हो गई है. गम, केमिकल, फिल्म, पीवीसी, पॉलिएस्टर फिल्म, प्रिंटिंग मैटेरियल के दामों में बढ़ोत्तरी हुई है. यही कारण है कि साड़ी पैकेजिंग में इस्तेमाल होने वाले बॉक्स की कीमत में 20 फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई है.

एसोसिएशन के अध्यक्ष दिनेश शर्मा ने कहा कि भुगतान की स्थिति बेहद खराब है. पुराना पेमेंट नहीं आया तो कारोबार करना मुश्किल होगा. इस स्थिति को संभालने के लिए नए नियम बनाए गए हैं. एसोसिएशन ने कपड़ा कारोबारियों से सहयोग करने की अपील की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज