बाजार में आम का जूस पीने वाले सावधान! अहमदाबाद में हुए शोध में सामने आए चौंकाने वाले नतीजे

शोध से पता चला है कि यदि आप बाजार से खरीद कर आम का रस पीते हैं तो ये आपके लिए ये हानिकारक हो सकती है.

Mango Juice: सीईआरसी की मुख्य महाप्रबंधक आनंदिता मेहता ने कहा कि उनकी कंपनी द्वारा 10 से अधिक ब्रांडों पर शोध किया गया, जिसमें अधिकांश नमूनों में हानिकारक चीज़ें मिली हैं.

  • Share this:
    अहमदाबाद. अगर आप बाजार में मिलने वाले डिब्बाबंद आम के जूस (Mango Juice) का सेवन कर रहे हैं तो सावधान हो जाएं. कंज्यूमर एजुकेशन रिसर्च सेंटर द्वारा किए गए शोध में चौंकाने वाला तथ्य सामने आए हैं. आम के रस में उच्च स्तर के पोषक तत्व और चीनी होती है, जो आपको बीमार कर सकती है. बाजार में बिकने वाले आम के रस का स्वाद जितना अच्छा होता है, वो उतना हानिकारक भी होता है. अगर आप बाजार में नामी ब्रांड के आम के जूस का सेवन कर रहे हैं, तो आपको खास तौर से सतर्क रहने की जरूरत है.

    एक व्यक्ति को एक दिन में केवल 20 से 30 ग्राम चीनी की आवश्यकता होती है, लेकिन बाजार में उपलब्ध रसों में बड़ी मात्रा में फुड कलर और चीनी मिलाई जाती है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है. सीईआरसी की मुख्य महाप्रबंधक आनंदिता मेहता ने कहा कि उनकी कंपनी द्वारा 10 से अधिक ब्रांडों पर शोध किया गया, जिसमें अधिकांश नमूनों में हानिकार चीज़े मिली हैं.

    ये भी पढ़ें:- छत्तीसगढ़ में लॉकडॉउन खुलेगा, लेकिन शर्तों पर, किन ज़िलों में कैसे मिलेगी राहत

    शोध से पता चला है कि यदि आप बाजार से खरीद कर मैंगो जूस पीते हैं तो ये आपके लिए हानिकारक हो सकती है. अधिकांश में जूस में हर 100 मिली लीटर में 20 ग्राम ज्यादा चीनी होती है. ऐसे में बाजार में मिलने वाला डिब्बाबंद आम का जूस सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है. शोध से पता चला है कि आम के रस में डाई बेस कलर्स डेटाजीन, सनसेट येलो के अलावा खराब पानी की मात्रा अधिक होती है, जिसका असर स्वास्थ्य पर पड़ता है. ऐसे लोगों पर इसका ज्यादा प्रभाव पड़ता है जो अस्थमा और मधुमेह के मरीज हैं.

    इसके अलावा बाजार में मिलने वाले आमों की गुणवत्ता पर भी शोध किया गया है. इस पर भी शोध किया गया कि आम आदमी कैल्शियम कार्बाइड और प्राकृतिक आमों से पके आमों को कैसे पहचान सकता है. सीईआरसी के मुताबिक प्रतिबंधित कार्बाइड से पके आम समान रूप से चमकदार माने जाते हैं.