क्या 'O पॉजिटिव' ब्लड ग्रुप वाले लोग कोरोना से संक्रमित नहीं होते? जानिए विशेषज्ञ का जवाब

डॉक्टर रजनीश पटेल

डॉक्टर रजनीश पटेल

Coronavirus: कोरोना वायरस से पूरा देश परेशान है. मामले दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं. वहीं वायरस को लेकर अलग-अलग चीज़ें सुनने को मिलती हैं. दावा किया जाता है कि 'O पॉजिटिव' रक्त समूह होने से कोरोना संक्रमण नहीं होता है. आखिर क्या है सच्चाई News18 ने इसे जानने की कोशिश की.

  • Share this:
अहमदाबाद. कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है. कोरोना वायरस के अलग-अलग लक्षण भी देखे जा रहे हैं. ऐसे समय में जब लोग कोरोना वायरस से बचने की कोशिश कर रहे हैं, इस बीच लोगों में ऐसी चर्चा भी देखी गई कि ओ-पॉजिटिव (O+) ब्लड ग्रुप होने पर व्यक्ति कोरोना से संक्रमित नही होता. लिहाजा News18 ने इस मामले में तथ्यों का पता लगाने की कोशिश की.

इस बाबत अहमदाबाद सिविल अस्पताल के एडिशनल सुप्रिटेंडेंट डॉक्टर रजनीश पटेल ने न्यूज 18 गुजराती से बात करते हुए कहा, 'ओ पॉजिटिव ब्लड अच्छा है.' डॉक्टर रजनीश पटेल का ब्लड ग्रुप भी 'ओ पॉजिटिव' है. वो पिछले 400 दिनों से कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज करते आ रहे हैं और अबतक वो संक्रमित नहीं हुए हैं.

ये भी पढ़ें:- कोरोना की दूसरी लहर से बांग्लादेश भी बेहाल, लगाया सात दिनों का संपूर्ण लॉकडाउन

हालांकि डॉ. पटेल कहते हैं कि 'जब से कोरोना का मामला आया है, कोरोना की गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन किया गया है. अस्पताल और घर के बाहर मास्क और सामाजिक दूरी का पालन किया गया है. इसीलिए वह कोरोना के संक्रमण से बचते रहे हैं.'
ये भी पढ़ें:- कोरोना की दूसरी लहर से बांग्लादेश भी बेहाल, लगाया सात दिनों का संपूर्ण लॉकडाउन

वह कहते हैं, 'लोगों को ऐसी धारणा में नहीं रहना चाहिए कि वो O- पॉजिटिव है, इसलिए कोरोना उन्हें नहीं होगा. ऐसा कोई अध्ययन नहीं हुआ है कि ओ-पॉजिटिव ब्लड ग्रुप होने पर कोरोना नहीं होगा. इसीलिए हम गारंटी के साथ ऐसा नहीं कह सकते. कोरोना के खिलाफ लड़ने के लिए मास्क और सामाजिक दूरी जरूरी है, टीका भी कोरोना के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज