Coronavirus In Gujarat: रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए सूरत में भाजपा दफ्तर के बाहर लगी लंबी लाइन

भाजपा की सूरत इकाई ने रेमेडिसविर इंजेक्शन वितरित किए (10 अप्रैल की तस्वीर- ANI)

भाजपा की सूरत इकाई ने रेमेडिसविर इंजेक्शन वितरित किए (10 अप्रैल की तस्वीर- ANI)

Coronavirus In Gujarat: भाजपा की सूरत इकाई ने रेमेडिसविर इंजेक्शन वितरित किए. हालांकि इस पर कांग्रेस ने आपत्ति जताई और मांग की है कि भाजपा नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज की जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 6:00 PM IST
  • Share this:
सूरत. गुजरात स्थित सूरत में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के कार्यालय पर कोरोना संक्रमण (Coronavirus In Gujarat) के इलाज में उपयोग किये जाने वाले एंटीवायरल ड्रग रेमडेसिविर ( Remdesivir injections) को फ्री बांटा जा रहा है. भाजपा के सूरत दफ्तर पर 100 मीटर से ज्यादा लंबी लाइन लगी है. अपने परिजनों के लिए लोग रेमडेसिविर का डोज लेने के लिए यहां पहुंचे हुए हैं.

अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार सोमवार को सुबह 10.40 बजे, रेमडेसिविर इंजेक्शन से भरी एक निजी कार भाजपा के सूरत दफ्तर में आई. कार में जाइडस हेल्थकेयर द्वारा निर्मित इंजेक्शन था. भाजपा कार्यकर्ताओं ने बक्से इकट्ठे किए और फिर सुबह 11 बजे, पूर्व नगरसेवक मनु पटेल के साथ भाजपा के युथ-विंग कार्यकर्ताओं के सदस्यों ने कमल के प्रतीक के साथ नारंगी-पेपर टोकन बांटे. टोकन में भाजपा आईटी विभाग के स्थानीय प्रमुख विजय राडिया के दस्तखत भी थे.

Youtube Video


इसी लाइन में 50 वर्षीय मीना पटेल भी लगी हुई थीं, जो रेमेडसवीर का इंजेक्शन लेने के लिए डिंडोली स्थित अपने घर से चलीं. उनकी 76 वर्षीय मां मरुबेन, कोविड संक्रमित होने के कारण अस्पताल में भर्ती हैं. रिपोर्ट के अनुसार मीना पटेल का 101वां नंबर था. पटेल ने बताया कि पहले राउंड में दफ्तर में 50 लोगों को बुलाया गया. इसके बाद फिर दूसरे राउंड में 50 लोगों को बुलाया गया. मेरा नंबर दूसरे राउंड में आया. बताया गया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन मांगने वालों को ही अंदर जाने दिया गया.
गुजरात भाजपा के अध्यक्ष को गिरफ्तार किया जाए : कांग्रेस

वहीं रेमडेसिविर की पांच हजार खुराकें नि:शुल्क वितरित करने के लिए गुजरात भाजपा के अध्यक्ष सी. आर. पाटिल विपक्ष के निशाने पर हैं. विपक्षी दल कांग्रेस ने अवैध रूप से दवा को खरीदने और इसके भंडारण के लिए सोमवार को उन्हें गिरफ्तार करने की मांग की. गुजरात कांग्रेस ने पाटिल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की, जिन्होंने अपने गृहनगर सूरत में रेमडेसिविर की कमी के बीच इस दवा की 5000 खुराकें वितरित करने की घोषणा कर विवादों को जन्म दिया था.

दवा का नि:शुल्क वितरण दस अप्रैल से भाजपा के सूरत कार्यालय में शुरू हुआ. कांग्रेस ने जहां उनकी गिरफ्तारी की मांग की है वहीं पिछले तीन दिनों में दवा की तीन हजार शीशियों का वितरण हो चुका है, जिसमें करीब एक हजार इंजेक्शन सोमवार को जरूरतमंद रोगियों के रिश्तेदारों को नि:शुल्क दिया गया. यह जानकारी सूरत भाजपा के एक पदाधिकारी ने दी.



सूरत इकाई के प्रमुख अमित चावडा के नेतृत्व में कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात की और ‘नियमों का उल्लंघन’ करने के लिए पाटिल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की. चावडा ने राज्यपाल से मुलाकात के बाद कहा, ‘कोई नहीं जानता कि पाटिल ने रेमडेसिविर के पांच हजार इंजेक्शन कैसे खरीदे. क्या उनके पास इस तरह की दवा को खरीदने और अपने परिसर में भंडारण करने का लाइसेंस है?’ उन्होंने कहा, ‘कितना धन खर्च हुआ (दवा की खरीद पर) और किस कानून के तहत इसे खरीदा गया? इस बारे में कोई सूचना उपलब्ध नहीं है.’ प्रतिनिधिमंडल में शामिल अन्य सदस्यों में राज्यसभा के सदस्य शक्ति सिंह गोहिल, विपक्ष के नेता परेश धनानी और गुजरात कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष भरत सिंह सोलंकी थे.



सूरत से भाजपा विधायक हर्ष सांघवी सोमवार को पाटिल के समर्थन में उतरे और कहा कि सभी इंजेक्शन दूसरे राज्यों से धन देकर खरीदा गया. सत्तारूढ़ दल के विधायक ने कांग्रेस पर प्रहार भी किया. सांघवी ने कहा, ‘हमने ये इंजेक्शन दूसरे राज्यों से खरीदे हैं जहां ये अधिक संख्या में उपलब्ध हैं. हम इसे कतार में खड़े लोगों को नि:शुल्क दे रहे हैं.’ उन्होंने पूछा, ‘क्या जरूरतमंद लोगों की मदद करना अपराध है? क्या चावडा ने अपने विधानसभा क्षेत्र में एक भी इंजेक्शन नि:शुल्क दिया है?’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज