होम /न्यूज /gujarat /

राजकोट: ऑक्सीजन की कमी से चलते-चलते सड़क पर गिर पड़ा कोरोना संक्रमित, मीडियाकर्मी ने ऐसे बचाई जान

राजकोट: ऑक्सीजन की कमी से चलते-चलते सड़क पर गिर पड़ा कोरोना संक्रमित, मीडियाकर्मी ने ऐसे बचाई जान

मीडियाकर्मी बिना किसी डर के मरीज को पंपिंग कराने के प्रयास शुरू किए. (फोटो: News18 Gujarati)

मीडियाकर्मी बिना किसी डर के मरीज को पंपिंग कराने के प्रयास शुरू किए. (फोटो: News18 Gujarati)

Coronavirus in Gujarat: अभय त्रिवेदी के नाम के एक मीडियाकर्मी ने राजकोट (Rajkot) शहर में मानवता की नई मिसाल पेश की है. शहर में एक कोरोना संक्रमित रोगी को बचाने के लिए उन्होंने अपनी जान की भी परवाह नहीं की.

    राजकोट. खबरें आती रही हैं कि कोरोना वायरस से जान गंवाने वालों का अंतिम संस्कार करने से रिश्तेदार भी मना कर देते हैं. वहीं, गुजरात के राजकोट शहर से खास मामला आया है. यहां एक पत्रकार ने अपनी जान जोखिम में डालकर एक कोरोना संक्रमित की मदद की. शहर में ऑक्सीजन स्तर (Oxygen Level) कम होने के चलते एक मरीज चलते-चलते गिर पड़ा. ऐसे में पास से गुजर रहे मीडियाकर्मी की वजह से मरीज को सही समय पर इलाज मिल पाया.

    अभय त्रिवेदी के नाम के एक मीडियाकर्मी ने राजकोट शहर में मानवता की नई मिसाल पेश की है. शहर में एक कोरोना संक्रमित रोगी को बचाने के लिए उन्होंने अपनी जान की भी परवाह नहीं की. प्राप्त जानकारी के अनुसार, श्वांस की तकलीफ के कारण मावड़ी इलाके में आनंद बंगला चौक के पास सड़क पर एक मरीज गिर गया. रोगी एक दम से पकड़ने के लिए संघर्ष कर रहा था. त्रिवेदी ने भागकर 108 को फोन किया.

    यह भी पढ़ें: सूरत: कोरोना के चलते श्मशान घाट पर लाशों की बढ़ी भीड़, जल्दी अंतिम संस्कार के लिए मांगे जा रहे हैं पैसे



    हालांकि, निर्धारित समय से 108 देर से आने वाले रोगी को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा था. इस समय, मीडियाकर्मी बिना किसी डर के मरीज को पंपिंग कराने के प्रयास शुरू किए. ताकि मरीज को सांस लेने में थोड़ी राहत मिले. 108 की टीम घटनास्थल पर पहुंची और मरीज को 108 के माध्यम से इलाज के लिए अस्पताल भेज दिया गया.



    उल्लेखनीय है कि राजकोट शहर में कोरोना वायरस की पुष्टि के लिए किए गए आरटी-पीसीआर परीक्षण की रिपोर्ट ब्लड सैंपल देने के 72 घंटे बाद मिलती है. दूसरी ओर, कुछ स्थानों पर सोमवार को आरटी-पीसीआर परीक्षण के लिए परिसमापन की खबरें थीं. इतिहास में पहली बार सिविल अस्पताल के मुख्य द्वार को बंद करने के लिए मजबूर किया गया था. 108 एंबुलेंस में इलाज के लिए मजबूर किए जा रहे कोरो संक्रमित मरीजों के वीडियो भी वायरल हुए. पिछले 24 घंटों में, राजकोट शहर में 59 संक्रमितों की मृत्यु हुई है. पिछले तीन दिनों में, 146 कोरोना संक्रमितों ने अपनी जान गंवाई है.undefined

    Tags: Coronavirus in Gujarat, Rajkot

    अगली ख़बर