गुजरात के विधायक बोले- कड़ी मेहनत करते हैं BJP कार्यकर्ता, तभी उन्‍हें नहीं होता कोरोना

बीजेपी विधायक ने दिया विवादित बयान. (File Pic)

बीजेपी विधायक ने दिया विवादित बयान. (File Pic)

गुजरात (Gujarat) के बीजेपी विधायक गोविंद पटेल की यह प्रतिक्रिया तब आई जब उनसे सवाल किया गया था कि क्या चुनाव प्रचार के दौरान नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा दिशा-निर्देशों का उल्लंघन किया जाना संक्रमण के मामले बढ़ने का कारण है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2021, 4:16 PM IST
  • Share this:
अहमदाबाद. गुजरात (Gujarat) में बीजेपी (BJP) के विधायक ने रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) को लेकर विवादित बयान दिया है. राजकोट (दक्षिण) से विधायक गोविंद पटेल (Govind Patel) ने कहा कि उनकी पार्टी के कार्यकर्ता कड़ी मेहनत करते हैं, इसलिए वे कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं होते. गोविंद पटेल की यह प्रतिक्रिया तब आई जब उनसे सवाल किया गया था कि क्या चुनाव प्रचार के दौरान नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा दिशा-निर्देशों का उल्लंघन किया जाना संक्रमण के मामले बढ़ने का कारण है. इसके जवाब में पटेल ने कहा, 'जो कड़ी मेहनत करते हैं, उन्हें कोरोना वायरस संक्रमण नहीं होता. बीजेपी कार्यकर्ता कड़ी मेहनत करते हैं, इसीलिए एक भी कार्यकर्ता संक्रमित नहीं हुआ है.'

पिछले महीने स्थानीय निकाय चुनावों की प्रचार मुहिम के दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी संक्रमित पाए गए थे. उनके अलावा, पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख सीआर पाटिल और कई विधायकों समेत सत्तारूढ़ पार्टी के कई नेता अलग-अलग समय पर संक्रमित पाए गए. वडोदरा से बीजेपी सांसद रंजनबेन भट्ट ने शनिवार को घोषणा की थी कि वह संक्रमित होने के कारण अस्पताल में भर्ती हैं.

Youtube Video




इस बीच राज्य के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने इस बातों को खारिज किया कि स्थानीय निकाय चुनाव और अहमदाबाद में टेस्ट और टी-20 मैचों का आयोजन कोविड-19 के मामले बढ़ने का मुख्य कारण हैं.
उन्होंने कहा, 'संविधान के तहत आवश्यकता के अनुसार चुनाव कराए गए. क्रिकेट मैच केवल अहमदाबाद में आयोजित हुए. महाराष्ट्र में कोई क्रिकेट मैच या चुनाव नहीं था, लेकिन देश में संक्रमण के रोजाना मामलों में से सर्वाधिक मामले (करीब 50 प्रतिशत मामले) महाराष्ट्र में सामने आ रहे हैं.'

उन्होंने कहा कि संक्रमण के मामलों में हाल में आई बढ़ोतरी को लेकर किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता, लेकिन यह वास्तविकता है कि संक्रमण से निपटने के लिए नियमों का पालन और महामारी को काबू करना लोगों की सामूहिक जिम्मेदारी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज