अपना शहर चुनें

States

जबरन धर्मांतरण के खिलाफ कानून की मांग करने पर मिली धमकी: मनसुख वसावा

भरुच जिले के पुलिस अधीक्षक राजेंद्र सिंह चूडास्मा ने बताया कि सांसद ने उस अंतरराष्ट्रीय फोन नंबर को साझा किया है जिससे कथित तौर पर धमकी दी गई थी.
भरुच जिले के पुलिस अधीक्षक राजेंद्र सिंह चूडास्मा ने बताया कि सांसद ने उस अंतरराष्ट्रीय फोन नंबर को साझा किया है जिससे कथित तौर पर धमकी दी गई थी.

भरुच जिले के पुलिस अधीक्षक राजेंद्र सिंह चूडास्मा ने बताया कि सांसद ने उस अंतरराष्ट्रीय फोन नंबर को साझा किया है जिससे कथित तौर पर धमकी दी गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 31, 2020, 7:43 AM IST
  • Share this:
अहमदाबाद. गुजरात (Gujarat) से भाजपा सांसद मनसुख वसावा (Mansukh Vasava) ने बुधवार को दावा किया कि राज्य में शादी के नाम पर हिंदू आदिवासी लड़कियों के कथित धर्मांतरण को रोकने के लिए कानून की मांग करने पर उन्हें ब्रिटेन से फोन पर धमकी दी गई. उल्लेखनीय है कि वसावा आदिवासी बहुल भरुच निर्वाचन क्षेत्र का लोकसभा में प्रतिनिधित्व करते हैं. भरुच जिले के पुलिस अधीक्षक राजेंद्र सिंह चूडास्मा ने बताया कि सांसद ने उस अंतरराष्ट्रीय फोन नंबर को साझा किया है जिससे कथित तौर पर धमकी दी गई थी.

उन्होंने बताया, ‘अभी तक शिकायत दर्ज नहीं की गई है.’ उल्लेखनीय है कि वसावा ने 16 दिसंबर को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी को पत्र लिखकर आदिवासी लड़कियों का शादी के जरिये कथित जबरन धर्मांतरण रोकने के लिए कानून बनाने की मांग की थी.

वसावा ने गांधीनगर में कहा, ‘‘ यह मुद्दा उठाने के बाद मुझे कुछ समूहों से धमकी मिली है. एक व्यक्ति ने हाल में मुझे लंदन से फोन किया और लव जिहाद का मुद्दा उठाने पर धमकी दी.’ उल्लेखनीय है कि ‘लव जिहाद’ शब्द का इस्तेमाल कुछ भाजपा नेता एवं उनके दक्षिणपंथी समर्थक कथित तौर पर साजिश के तहत हिंदू लड़की का अंतरधर्म विवाह कराकर इस्लाम में धर्मांतरण कराने के लिए करते हैं.



वसावा ने कहा, ‘‘ कुछ लोगों ने मुझपर कथित मुस्लिम विरोधी होने का आरोप लगाया जो सच नहीं है. कई मुस्लिम लव जिहाद के मुद्दे पर मुझसे सहमत हैं और मानते हैं कि इससे दोनों समुदायों के बीच आपसी भरोसा कम होता है. मेरे निर्वाचन क्षेत्र में बड़ी संख्या में मुस्लिम रहते हैं मैं उनका भी प्रतिनिधित्व करता हूं.’

उल्लेखनीय है कि इससे पहले वडोदरा के दाबहोई विधानसभा से भाजपा विधायक ने भी इसी तरह के कानून की मांग की थी. भाजपा शासित उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश धोखाधड़ी या शादी के जरिये जबरन धर्मांतरण कराने के खिलाफ कानून लेकर आए हैं. इससे पहले, भाजपा से दो दिन पहले इस्तीफा देने वाले वसावा ने स्वास्थ्य कारणों का जिक्र करते हुए कहा कि वरिष्ठ नेताओं से चर्चा के बाद उन्होंने पार्टी नहीं छोड़ने का फैसला किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज