अपना शहर चुनें

States

ओवैसी अब गुजरात में देंगे BJP को चुनौती, BTP के साथ लड़ेंगे पंचायत चुनाव

AIMIM के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी बीटीपी को समर्थन देंगे.
AIMIM के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी बीटीपी को समर्थन देंगे.

Gujarat Panchayat Polls: असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) इससे पहले बंगाल विधानसभा में भी चुनाव लडने का ऐलान कर चुके हैं. अब वह गुजरात में भी चुनावी दंगल में उतरने की तैयारी कर रहे हैं. बीटीपी के विधायक छोटू वसावा ने उनके साथ गठबंधन करने का खुला संकेत दे दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 26, 2020, 5:37 PM IST
  • Share this:
गांधीनगर. गुजरात में आगामी स्थानीय चुनाव के लिए भारतीय ट्राइबल पार्टी (Bhartiya Tribal party) और AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) साथ आ गए हैं. दोनों पार्टियों ने चुनाव साथ लड़ने का फैसला किया है. यह जानकारी बीटीपी विधायक छोटूभाई वसावा (Chotubhai Vasava) ने शनिवार को दी है. वसावा ने बताया कि बीटीपी और एआईएमाईएम संविधान को बचाने के लिए एक साथ सियासी मैदान में उतरे हैं. फरवरी-मार्च में जिला पंचायत और तहसील पंचायतों के चुनाव होने हैं.

छोटू वसावा जहागड़िया से विधायक हैं. उन्होंने कहा कि बीटीपी और AIMIM गुजरात में होने जा रहे पंचायत चुनाव एक साथ लड़ेगी. उन्होंने कहा कि लोगों को बेहतर भविष्य के लिए कांग्रेस और बीजेपी दोनों को हटाने के लिए काम करना होगा. इसके अलावा उन्होंने राजस्थान में भी पार्टी को धोखा दिए जाने की बात कही. विधायक ने कहा कि बीटीपी को राजस्थान (Rajasthan) में धोखा मिला क्योंकि बीजेपी और कांग्रेस एक साथ आ गईं थीं, ताकि बीटीपी को सत्ता से दूर रखा जा सके.

यह भी पढ़ें: ओवैसी की AIMIM और BTP में गठबंधन हुआ तो इन 50 सीटों पर बिगड़ सकता है कांग्रेस का समीकरण



इसके अलावा उन्होंने ओवैसी को गुजरात में चुनाव प्रचार के लिए बुलाने की भी बात कही है. गौरतलब है कि पूरे गुजरात सदन में बीटीपी के दो ही विधायक हैं. एक छोटू वसावा और दूसरे उनके बेटे हैं. इसके अलावा बीटीपी के पास राजस्थान में भी दो सीटें हैं. हालांकि, इसपर ओवौसी की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. वसावा इससे पहले जेडीयू में भी रह चुके हैं.

इधर बीटीपी ने राजस्थान में सियासी खेल बदला
असदुद्दीन ओवैसी ने राजस्थान में बीटीपी को समर्थन देने की पेशकश की थी. इसके बाद से ही कयास लगाए जाने लगे थे कि ओवैसी राजस्थान की सियासत में आने की कोशिश में हैं. ओवैसी ने एक ट्वीट के जरिए बीटीपी को समर्थन पेश किया था. गौरतलब है कि बीटीपी ने हाल ही में अशोक गहलोत (Ashok Gahlot) के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज