गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष और विधायक दल के नेता की कुर्सी खतरे में, उपचुनाव के बाद होगा फैसला

कांग्रेस आलाकमान दोनों ही युवा नेताओं को बदलने पर विचार विमर्श कर रहा है.
कांग्रेस आलाकमान दोनों ही युवा नेताओं को बदलने पर विचार विमर्श कर रहा है.

गुजरात (Gujarat) ऐसा राज्य है जहां पिछले 25 साल से कांग्रेस (Congress) सत्ता से बाहर है. 2017 के विधानसभा चुनाव (Assembly elections) में कांग्रेस ने पूरी ताक़त झोंक दी. पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को गुजरात का महासचिव बनाकर चुनाव लड़ा.

  • Share this:
रंजीता झा
अहमदाबाद. गुजरात (Gujarat) ऐसा राज्य है जहां पिछले 25 साल से कांग्रेस (Congress) सत्ता से बाहर है. 2017 के विधानसभा चुनाव (Assembly elections 2017) में कांग्रेस ने पूरी ताक़त झोंक दी. पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को गुजरात का महासचिव (Secretary General of Gujarat) बनाकर चुनाव लड़ा. यहां तक कि राहुल गांधी (Rahul Gandhi) का जनेऊ अवतार भी गुजरात चुनाव में ही पहली बार देखने को मिला था.

2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 77 सीटें मिलीं जबकि मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी नहीं थे. उस चुनाव के बाद राहुल गांधी ने युवा चेहरे अमित चावड़ा को प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी तो वहीं परेश धनानी को विधायक दल का नेता बनाया. लगभग तीन साल बीत जाने के बाद भी दोनों युवा नेताओं में समझौता नहीं हो पाया और संगठन के स्तर पर पार्टी को नुकसान उठाना पड़ा.

8 विधानसभा सीटों पर होना है अपचुनाव
अब कांग्रेस आलाकमान दोनों ही युवा नेताओं को बदलने पर विचार विमर्श कर रहा है. अगस्त में 8 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना है. उपचुनाव के नतीजों का भी इस फ़ैसले पर प्रभाव पड़ने वाला है.


हाल ही में हुए राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस ने अपने दो उम्मीदवार भरत सिंह सोलंकी और शक्ति सिंह गोहिल को मैदान में उतारा था लेकिन दो वोटों से भरत सिंह सोलंकी चुनाव हार गए.

राहुल गांधी ने दी थी नसीहत
इससे पहले राहुल गांधी ने भी गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष अमित चावड़ा और विधायक दल के नेता परेश धनानी को दिल्ली बुलाकर साफ़ कहा दिया था, 'अगर आप मिलकर काम नहीं कर सकते तो गुजरात में और बहुत नेता है जो पार्टी के लिए काम करने को तैयार है.' राहुल गांधी की इस नसीहत के बाद भी ज़्यादा कुछ नहीं बदला और अब आख़िर में बस कांग्रेस आलाकमान को उपचुनाव के नतीजों का इंतज़ार है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज