अपना शहर चुनें

States

किसान आंदोलन पर बोले नितिन पटेल, इसमें खालिस्तानी और पाकिस्तानी भी हैं शामिल

कृषि कानून का विरोध कर रहे किसान आंदोलन का आज 22 दिन है.
कृषि कानून का विरोध कर रहे किसान आंदोलन का आज 22 दिन है.

नितिन पटेल (Nitin Patel) ने कहा, आंदोलन (Andolan) कर रहे सभी किसान (Farmers)ऐसे नहीं हैं लेकिन 25 हजार में 5000 ऐसे लोग है जिनका आंदोलन (Kisan Andolan) से कोई लेना देना नहीं है. ऐसे लोग चाहते हैं कि देश में अराजकता फैले और लोग सरकार से नाराज हों.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 18, 2020, 8:07 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार के नए कृषि कानून (Agriculture law) के विरोध में हरियाणा और पंजाब के किसान (Farmers) दिल्ली के बॉर्डर पर पिछले 22 दिनों से डटे हुए हैं.​ किसान जहां कृषि कानून को पूरी तरह से रद्द कराने की मांग पर अड़े हैं, वहीं केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि वह कृषि कानून में संशोधन को तो तैयार है लेकिन कानून रद्द नहीं होगा. इस मुद्दे पर अब सियासत भी तेज हो गई है. विपक्ष जहां कृषि कानून के विरोध में बयानबाजी कर रहा है तो वहीं बीजेपी शासित प्रदेश के नेता इस कानून को किसानों के लिए फायदेमंद बता रहे हैं. इसी क्रम में अब गुजरात (Gujarat) के उपमुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता नितिन पटेल (Nitin Patel) ने किसानों को लेकर विवादित बयान दिया है.

नितिन पटेल ने कहा है कि किसान आंदोलन अब किसानों का नहीं रहा. इस आंदोलन में खालिस्तानी और पाकिस्तानी घुस आए हैं. उन्होंने कहा कि आंदोलन कर रहे सभी किसान ऐसे नहीं हैं लेकिन 25 हजार में 5000 ऐसे लोग है जिनका आंदोलन से कोई लेना देना नहीं है. ऐसे लोग चाहते हैं कि देश में अराजकता फैले और लोग सरकार से नाराज हों, भाजपा से नाराज हों.

इसे भी पढ़ें :- प्रयागराज: यूपी बीजेपी अध्यक्ष बोले- किसान आंदोलन के पीछे CAA-NRC विरोधी ताकतों का षड्यंत्र
गुजरात के उपमुख्यमंत्री ने कहा खालिस्तानी जो पंजाब को भारत से अलग करने के लिए आंदोलन कर रहे हैं और जिस तरह आतंकवादी जम्मू-कश्मीर के रास्ते देश की शांति को भंग करना चाहते हैं. उसी तरह से किसान आंदोलन में शामिल हो चुके खालिस्तानी देश की शांति को खराब करने की कोशिश में लगे हुए हैं.



इसे भी पढ़ें :- Kisan Andolan: आगे की रणनीति तय करने के लिए वरिष्ठ वकीलों से मिलेंगे किसान नेता

नितिन पटेल ने कहा, हम कह सकते हैं कि इस आंदोलन में कैंसर वाला भी आया है और किडनी की बीमार वाला भी शामिल है. दोनों देश के विरोधी हैं. एक पंजाब को भारत से अगल करना चाहता है तो दूसरा कश्मीर को पाकिस्तान से जोड़ने की कोशिश में लगा हुआ है. दोनों तरह के लोग आंदोलन का हिस्सा बन चुके हैं. आंदोलन में नक्सलवादी, आतंकवादी, माओवादी और खालिस्तान घुस आए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज