अहमदाबादः आग का वीडियो देखने के बाद आतंकी ने कहा, "मजा नहीं आया कुछ और बड़ा करो"

अहमदाबाद क्राइम ब्रांच की टीम ने एक आतंकी मॉड्यूल का किया पर्दाफाश.

अहमदाबाद क्राइम ब्रांच की टीम ने एक आतंकी मॉड्यूल का किया पर्दाफाश.

Ahmedabad Fire Pakistan ISI Terrorist: आग लगने के बाद भूपेंद्र सिंह नाम के व्यक्ति को हवाला के जरिए दुबई से रुपये भी दिए गए थे. इस मामले में दो लोगों को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया है.

  • Share this:
अहमदाबाद. अहमदाबाद के कालूपुर रेवड़ी बाजार में 20 मार्च को पांच दुकानों में आग लगी थी, जिसमें आतंकी साजिश का पर्दाफाश हुआ है. अहमदाबाद क्राइम ब्रांच को इस मामले में बड़ी कामयाबी मिली है. क्राइम ब्रांच ने एक नए आतंकी मॉड्यूल का खुलासा किया है. आग लगने के बाद भूपेंद्र सिंह नाम के व्यक्ति को हवाला के जरिए दुबई से रुपये भी दिए गए थे. इस मामले में दो लोगों को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया है. आरोपी पीपीई किट पहने हुए थे और रेवड़ी बाजार में आग लगाइ थी. जिससे वो पहचान छुपा सके. दूसरी ओर, वे भय का माहौल बनाना चाहते थे.

शीर्ष सूत्रों के अनुसार, पाकिस्तान के हैंडलर बाबा खान एक विशेष ऐप पर आरोपी भूपेंद्रसिंह के साथ बातचीत करता था. आग का वीडियो देखने के बाद आतंकी ने कहा, "मजा नही आया कुछ ओर बड़ा करो". News18 के पास यह एक्सक्लूसिव चैट है जिसमें भूपेंद्र अपने आतंकवादी आका के साथ क्या बात करता था वो सामने आया है.

खबरों के मुताबिक, बाबाखान नाम का पाकिस्तानी हैंडलर Wickr पर गुप्त बातचीत करता था. बाबाखान उसे व्हाट्सएप पर 'दुकान पे आ जाओ’ संदेश भेजता था. यह मैसेज में ऑटो डिलीट का विकल्प देता है. हालांकि, ऑटो डिलिट किए गए संदेश को क्राइम ब्रांच द्वारा डिकोड किया गया है.



रेवड़ी बाजार का वीडियो पाकिस्तान भेजा गया था
शीर्ष अधिकारियों ने कहा कि भूपेंद्र और प्रवीण ने आग के वारदात को अंजाम देने के बाद रेवड़ी बाजार में आग लगाने का वीडियो पाकिस्तान में अपने आकाओं को भेजा. वीडियो देखने के बाद बाबा खान ने कहा, "मजा नहीं आया, कुछ ओर बड़ा करो". इस तरह बड़े आतंकी हमलों को अंजाम देने से पहले पाकिस्तानी आका इस प्रकार की घटना से टेस्टिंग करना चाहते थे.

भूपेंद्र के पकड़े जाने पर बाबा खान परेशान था
जब भूपेंद्र हथियार लेकर गुजरात आते हुए पकड़ा गया, तो यह खबर मिलते से आतंकी आका परेशान हो गया. इस घटना के बाद, उन्होंने भूपेंद्र से पूछा, "तुमने पुलिस को कुछ बताया नहीं, अगर बता भी देते, तो पुलिस मुझे नहीं पकडं पाती?" बाबा खान को यकीन था कि उनकी चैट नहीं पकड़ी जाएगी, लेकिन क्राइम ब्रांच ने इस चैट को डिकोड करने में कामयाबी हासिल कर ली है.

एक बड़े आदमी को मारने का काम सौंपा गया था
बाबा आतंकवादी वारदात को अंजाम देने के लिए भूपेंद्र को अजमाना चाहता था. इसलिए उसने भूपेंद्र को पेटीएम से 25,000 रुपये दिए और कहा कि वह किसी बड़े कुख्यात व्यक्ति को मार डाले. इसके लिए उन्हें एक बड़े जानेमाने व्यक्ती को मारने का टास्क दिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज