गुजरात: OLX पर रेमडेसिविर बिकने की पोस्ट वायरल, लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

मरीज जीवन जीने के लिए सांसे गिनता हो उसका परिवार इस इंजेक्शन को पाने के लिए संघर्ष कर रहा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मरीज जीवन जीने के लिए सांसे गिनता हो उसका परिवार इस इंजेक्शन को पाने के लिए संघर्ष कर रहा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Coronavirus in Gujarat: सूरत के डिंडोली के अंबिका पार्क में और साथ ही अंबानगर में 1,200 रुपये मे एक रेमेडियल इंजेक्शन प्राप्त कर सकते हैं. इस तरह की OLX पर पोस्ट मिली थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 17, 2021, 2:43 PM IST
  • Share this:
गांधीनगर. गुजरात (Gujarat) में कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर घातक हो रही है. अहमदाबाद (Ahemdabad), सूरत (Surat), राजकोट (Rajkot) में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में काफी उछाल आया है. दूसरी ओर मरीज के लिए रेमडेसिविर इन्जेक्शन (Remdesivir injection) पर्याप्त मात्रा में नही मिल पा रहे हैं. हालात ये हैं कि इंजेक्शन लेने के लिए लंबी लाइनें लग रही हैं, लेकिन कमी होने के चलते काफी लोगों को दवा नहीं मिल पा रही है.

कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज के परिजन उपचार के लिए कई रुपये देने को तैयार होते हैं. एक तरफ, सरकार ने कहा है कि इन इंजेक्शनों का स्टॉक बढ़ा दिया गया है, लेकिन वास्तविक स्थिति अलग है. इस हालात के बीच में बहुत सारे लोग ऐसी भयानक स्थिति का आनंद ले रहे हैं. सूरत के डिंडोली के अंबिका पार्क में और साथ ही अंबानगर में 1,200 रुपये मे एक रेमेडियल इंजेक्शन प्राप्त कर सकते हैं. इस तरह की OLX पर पोस्ट मिली थी. हालांकि, लोग इस पोस्ट को पोस्ट करने वाले व्यक्ति से संपर्क नहीं कर सके. उस व्यक्ति की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, भले ही उसे यह संदेश दिया गया हो कि उसे इंजेक्शन की आवश्यकता है.

इंजेक्शन के लिए दौड़

एक मरीज जीवन जीने के लिए सांसे गिनता हो उसका परिवार इस इंजेक्शन को पाने के लिए संघर्ष कर रहा है. फिर ऐसी पोस्ट से लोगों को उम्मीद तो होती है लेकिन कुछ नहीं मिलता. इस तरह, मरीज के परिवार भी अतीत में साइबर अपराध के शिकार हुए हैं. शहर की पुलिस से मांग है कि ऐसे पोस्ट डालने वाले के खिलाफ कार्रवाई की जाए.
यह भी पढ़ें: सदानंद गाैड़ा बोले- सरकार रेमडेसिविर का उत्पादन बढ़ाने के सभी कदम उठा रही है

इंजेक्शन के लिए लंबी लंबी लाइनें

मरीज के रिश्तेदार जो सूरत में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी का सामना कर रहे हैं, सुबह से इंजेक्शन के लिए कतार में खड़े रहते हैं, लेकिन जब तक उनके नंबर आने तक स्टॉक खत्म हो जाता है तब निराश होते हैं. परिजन आरोप लगा रहे हैं कि अस्पताल ने एक इंजेक्शन प्रणाली स्थापित नहीं की है, हालांकि इंजेक्शन प्राप्त करने के लिए दिशानिर्देश जारी किए गए हैं.



साधारण लोग तो ठीक यहां तक ​​कि नगरपालिका के कर्मचारी भी अपने रिश्तेदारों को बचाने के लिए इंजेक्शन लेने के लिए लाइन में खड़े दिखाई देते हैं. अस्पताल में उपचार कर रहे मरीजों के उपचार के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन की भारी कमी है. मरीज के परिजन किसी भी हालत में इंजेक्शन न पाने की कोशिश में लगे हैं.



विशेष रूप से, मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने शुक्रवार को सोशल मीडिया के माध्यम से राज्य के लोगों को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने राज्य के स्वास्थ्य कर्मियों को धन्यवाद दिया. उन्होंने उन्हें सुपरहीरो कहा और पिछले एक साल से उनके द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की. साथ ही उन्होंने कहा, कोरोना हार जाएगा और गुजरात जीत जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज