गुजरात: लॉकडाउन नहीं लगने से राहत, नाइट कर्फ्यू ने बढ़ाई चिंता; कारोबारी परेशान

नाइट कर्फ्यू का समय बढ़ने के साथ ही अब पाबंदियों का दायरा भी 20 शहरों तक बढ़ गया है. (प्रतीकात्मक फोटो)

नाइट कर्फ्यू का समय बढ़ने के साथ ही अब पाबंदियों का दायरा भी 20 शहरों तक बढ़ गया है. (प्रतीकात्मक फोटो)

Night Curfew in Gujarat: कारोबारियों का मानना है कि कर्फ्यू का बढ़ा समय और शादी में कम होती मेहमानों की संख्या से इंडस्ट्री को नुकसान होगा. मार्च के मध्य में लगे कर्फ्यू के बाद रेस्त्रां और हॉस्पिटैलिटी सेक्टर नुकसान से उबर ही रहा था कि ये नई पाबंदियां लग गईं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 8, 2021, 11:16 AM IST
  • Share this:
गांधीनगर. कोरोना वायरस (Coronavirus) के कहर के चलते गुजरात के 20 शहरों में नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया गया है. हाईकोर्ट की सलाह और सरकार के फैसले के बाद से कारोबारियों में खासी चिंता है. एक ओर लॉकडाउन (Lockdown) न लगने की खबर से राहत की सांस ले रहे रेस्त्रां और होटल कारोबारी परेशान हो गए हैं. आशंका जताई जा रही है कि सरकार का यह फैसला व्यापार को खासा प्रभावित कर सकता है.

कारोबारियों का मानना है कि कर्फ्यू का बढ़ा समय और शादी में कम होती मेहमानों की संख्या से इंडस्ट्री को नुकसान होगा. मार्च के मध्य में लगे कर्फ्यू के बाद रेस्त्रां और हॉस्पिटैलिटी सेक्टर नुकसान से उबर ही रहा था कि ये नई पाबंदियां लग गईं. खास बात यह है कि गुजरात हाई कोर्ट ने राज्य में कोविड-19 के हालात को नियंत्रित करने के लिए सही कार्रवाई करने की सलाह दी थी. इसके बाद मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कुछ पाबंदियों की घोषणा कर दी है.

यह भी पढ़ें: COVID-19 Curfew: गुजरात सरकार ने मानी हाईकोर्ट की सलाह, इन 20 शहरों में नाइट कर्फ्यू की घोषणा



नाइट कर्फ्यू का समय बढ़ने के साथ ही अब पाबंदियों का दायरा भी 20 शहरों तक बढ़ गया है. अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत, राजकोट, जामनगर, भावनगर, जूनागढ़ और गांधीनगर के अलावा आनंद, नाडियाड, मेहसाना, मोरबी, पाटन, गोधरा, दाहोद, भुज, गांधीधाम, भरूच, सुरेंद्रनगर और अमरेली में भी पाबंदियां लगाई गई हैं. इसके अलावा सरकार ने शादियों में मेहमानों की संख्या 200 से 100 कर दी है.

सरकार के इस फैसले के बाद रेस्त्रां और होटल कारोबार को नुकसान पहुंचेगा. वहीं, मार्च के मध्य में नाइट कर्फ्यू के बाद से ही व्यापारी नुकसान उठा रहे हैं. ऐसे में नाइट कर्फ्यू में इजाफा होने के चलते ज्यादातर रेस्त्रां को मजबूरी में शाम को अपना कारोबार बंद करना होगा और केवल 'टेक अवे' मोड में काम करना होगा. खास बात है कि बीते कुछ महीनों में शादियों के चलते अहमदाबाद के होटलों ने अच्छा कारोबार किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज