भारत ने 21 जून को टीकाकरण में रचा इतिहास, ग्रामीण इलाकों में लगे 63.7% टीके: स्वास्थ्य मंत्रालय

देश में वैक्सीनेशन का टूटा रिकॉर्ड (रॉयटर्स)

Coronavirus Vaccination: नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने कहा कि टीकों के ग्रामीण कवरेज पर उल्लेखनीय रूप से बल दिया गया है. पॉल ने बताया कि मंगलवार को टीके की कुल खुराक में 63.7% गांवों में और 36% शहरी क्षेत्रों में दी गईं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत ने 21 जून 2021 को एक ही दिन में कोरोना वायरस रोधी टीके (Coronavirus Vacciantion) की 88.09 लाख खुराक लगाकर इतिहास रच दिया था. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को यह जानकारी दी. भूषण ने कहा कि मध्य प्रदेश में सर्वाधिक 17 लाख से अधिक खुराकें दी गईं. कर्नाटक में 11 लाख से ज्यादा, यूपी में 7 लाख से ज्यादा, बिहार में 5.75 लाख, हरियाणा और गुजरात में 5.15 लाख, राजस्थान में 4.60 लाख, तमिलनाडु में 3.97 लाख, महाराष्ट्र में 3.85 लाख और असम में 3.68 लाख वैक्सीन लगाई गईं. वहीं नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने कहा कि टीकों के ग्रामीण कवरेज पर उल्लेखनीय रूप से बल दिया गया है. पॉल ने बताया कि मंगलवार को टीके की कुल खुराक में 63.7% गांवों में और 36% शहरी क्षेत्रों में दी गईं.

    एक दिन में सर्वाधिक टीकाकरण को लेकर पूछे जाने पर राजेश भूषण ने कहा, 'जो कल हुआ है वह अचानक नहीं हुआ, यह समन्वय के साथ बनाई गई योजना का नतीजा है.' उन्होंने कहा कि 1 से 21 जून तक रोजाना टीकाकरण का औसत 34,62,841 रहा. इसी वजह से वैक्सीन और क्षमता होने के कारण यह आंकड़ा 88 लाख तक पहुंच सका. भूषण ने बताया कि 21 जून को पूरे देशभर में 88,09,000 कोविड वैक्सीन की खुराक दी गईं. उन्होंने कहा कि सोमवार को 40,43,000 वैक्सीन की डोज़ महिलाओं को लगाई गईं और पुरुषों को वैक्सीन की 47,24,283 डोज़ लगाई गईं.

    ये भी पढ़ें- नई चुनौती बन सकता है डेल्टा+ वेरिएंट, राज्यों को जारी किए गए निर्देश: केंद्र

    स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने डेल्टा वेरिएंट (Coronavirus Delta Variant) को लेकर कहा कि डेल्टा संस्करण भारत सहित 80 देशों में पाया गया है. उन्होंने कहा कि इसे 'चिंता का रूप' माना जा रहा है. डेल्टा प्लस 9 देशों- यूएस, यूके, पुर्तगाल, स्विट्जरलैंड, जापान, पोलैंड, नेपाल, चीन और रूस में पाया गया है. उन्होंने कहा कि भारत में मिले 22 मामले वेरिएंट ऑफ इंटरेस्ट की श्रेणी में है. उन्होंने बताया कि भारत में डेल्टा प्लस वेरिएंट के 22 में से 16 मामले रत्नागिरी और जलगांव (महाराष्ट्र) में पाए गए हैं और कुछ मामले केरल और मध्य प्रदेश में पाए गए हैं.



    डेल्टा वेरिएंट पर वैक्सीन की प्रभावकारिता को लेकर राजेश भूषण ने कहा कि मोटे तौर पर, दोनों भारतीय टीके जो हम कोविड टीकाकरण कार्यक्रम में उपयोग कर रहे हैं- कोविशील्ड & कोवैक्सीन- डेल्टा संस्करण के खिलाफ प्रभावी हैं. लेकिन वे किस हद तक और किस अनुपात में एंटीबॉडी टाइटर्स का उत्पादन करते हैं, जिसे हम जल्द ही आपके साथ साझा करेंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.