वडोदरा: श्‍मशान घाट पर मुस्लिम स्‍वयंसेवक की मौजूदगी से बीजेपी नेता नाराज़, जताई आपत्ति

राजस्थान में कोरोना संक्रमण की बेकाबू रफ्तार . (प्रतीकात्मक तस्वीर: पीटीआई)

राजस्थान में कोरोना संक्रमण की बेकाबू रफ्तार . (प्रतीकात्मक तस्वीर: पीटीआई)

यह स्वयंसेवक शवों के अंतिम संस्‍कार के लिए लकड़ी और गोबर के उपले के साथ चिता तैयार करने में मदद कर रहा था, जिस पर बीजेपी नेताओं ने आपत्ति जताई. वहीं वडोदरा नगर निगम में शामिल एक अन्य भाजपा नेता ने कहा, पार्टी के नेताओं द्वारा लिया गया यह रुख बहुत शर्मनाक है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2021, 7:49 AM IST
  • Share this:
अहमदाबाद. देश में कोरोना वायरस (Corona) का कहर बढ़ता ही जा रहा है. देश की स्थिति इतनी खराब हो गई है कि कोरोना से होने वाली मौत के बाद अंतिम संस्‍कार (Funeral) के लिए घंटों इंतजार करना पड़ रहा है. मौत के इस तांडव के बीच वडोदरा (Vadodara) से एक शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है. वडोदरा के बीजेपी नेताओं ने शहर के खसवाडी श्‍मशान घाट में मुस्लिम स्‍वयंसेवकों (Muslim Volunteers) की उपस्थिति पर आपत्ति दर्ज कराई है.

पार्टी के कुछ नेता 16 अप्रैल को एक भाजपा नेता के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए खसवाडी श्‍मशान घाट गए थे. वहां पर शव के अंतिम संस्‍कार की प्रक्रिया वहां मौजूद कुछ स्‍वयंसेवक कर रहे थे. इसी समूह में एक मुस्लिम स्‍वयंसेवक भी मौजूद था, जिसे लेकर बीजेपी नेताओं ने आपत्ति जताई. बीजेपी नेताओं ने वडोदरा नगर निगम में इस संबंध में शिकायत की, लेकिन बीजेपी नेताओं की आपत्तियों को निगम ने स्‍वीकार करने से इनकार कर दिया. महापौर केयूर रोकड़िया ने कहा कि महामारी के समय समुदायों को एक साथ काम करना चाहिए. उन्‍होंने कहा कि श्‍मशान घाट पर अगर मुस्लिम स्‍वयंसेवक काम कर रहे हैं तो इसे एकता की नजर से देखने की जरूरत है.



इसे भी पढ़ें :- केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली में फिर खुलेगा सरदार पटेल कोविड-19 सेंटर
बता दें कि 16 अप्रैल को, पार्टी के शहर इकाई के कुछ भाजपा नेता, जिनमें शहर अध्यक्ष डॉ. विजय शाह भी शामिल थे, पार्टी नेता के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए श्मशान घाट पहुंचे थे. बीजेपी नेताओं ने श्‍मशान घाट पर मौजूद एक मुस्लिम लड़के की उपस्थिति पर आपत्ति जताई, जो शवों के अंतिम संस्‍कार के लिए लकड़ी और गोबर के उपले के साथ चिता तैयार करने में मदद कर रहा था. शाह ने वडोदरा नगर निगम को यह सुनिश्चिम करने के लिए कहा कि मुसलमानों को श्मशान में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए.

इसे भी पढ़ें :- देशभर में कोरोना से हाहाकार, UP-दिल्‍ली समेत कई राज्‍यों में टूटे सारे रिकॉर्ड

वडोदरा में कोरोना महामारी के प्रकोप के बाद से मुस्लिम स्वयंसेवक ऐसे मामलों में कोविड-19 अंतिम संस्कार करने में सबसे आगे रहे हैं, जहां मृतक के परिजनों ने साथ आने से इनकार कर दिया हो. वडोदरा नगर निगम में शामिल एक अन्य भाजपा नेता ने कहा, पार्टी के नेताओं द्वारा लिया गया यह रुख बहुत शर्मनाक है. इस समय जब पूरा शहर एक संकट से गुजर रहा है उस वक्‍त धार्मिक विचारधाराओं का मिश्रण करना सही नहीं है. हम इस बात से इनकार नहीं कर सकते हैं कि वड़ोदरा में मुस्लिम समूहों ने पिछले वर्ष के दौरान नगर निगम के साथ मिलकर काम किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज