क्या अहमदाबाद म्युनिसिपल स्कूल बोर्ड से भी कांग्रेस का सफाया हो जाएगा?

क्या अहमदाबाद म्युनिसिपल स्कूल बोर्ड के सदस्य के रूप में भी कांग्रेस का सफाया हो जाएगा?

क्या अहमदाबाद म्युनिसिपल स्कूल बोर्ड के सदस्य के रूप में भी कांग्रेस का सफाया हो जाएगा?

अहमदाबाद नगर प्राथमिक शिक्षा समिति (Ahmedabad Municipal School Board) के नियंत्रण वाले स्कूलों के प्रबंधन के लिए जल्द ही एक स्कूल बोर्ड समिति का गठन किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 8:31 AM IST
  • Share this:
अहमदाबाद. अहमदाबाद नगर निगम चुनावों के बाद अब स्कूल बोर्ड (Ahmedabad Municipal School Board) सदस्य के पद पर भी कांग्रेस का सफाया होता दिख रहा है. निगम की सदस्यता के लिए कुल 15 सीटें हैं, जिनमें से 3 सीटें सरकार द्वारा नियुक्त की जाती हैं, जबकि स्कूल बोर्ड के सदस्यों की सदस्यता 12 चुने हुए नगरसेवकों के आधार पर तय की जाती है. लेकिन इस बार एएमसी चुनाव का नतीजा ऐसा रहा कि कांग्रेस बोर्ड में कम संख्या में नगरसेवक हैं और तस्वीर यह है कि केवल एक कांग्रेस उम्मीदवार को स्कूल बोर्ड में सदस्यता मिलेगी.

अहमदाबाद नगर प्राथमिक शिक्षा समिति के नियंत्रण वाले स्कूलों के प्रबंधन के लिए जल्द ही एक स्कूल बोर्ड समिति का गठन किया जाएगा, लेकिन अहमदाबाद महानगर पालिका के परिणामों को देखते हुए, कांग्रेस के सदस्य स्कूल बोर्ड समिति में कम रहेंगे. 15 सदस्यीय स्कूल बोर्ड समिति में विपक्ष के केवल एक नेता को जगह मिली है. अहमदाबाद नगर प्राथमिक शिक्षा समिति में स्कूल बोर्ड के 15 सदस्य सभी स्कूलों की प्रबंधन प्रक्रिया की देखरेख करते हैं.

3 सीटें मैट्रिक पास उम्मीदवार को आवंटित
इन 15 सदस्यों की बात करें तो 3 सदस्य राज्य सरकार द्वारा नियुक्त किए जाते हैं. 1 सदस्य  DEO के रूप में चुना जाता है. शेष 12 सदस्यों में से एक सीट आरक्षित है, 3 सीटें मैट्रिक पास उम्मीदवार को आवंटित की गई हैं.



इस बार बनी स्थिति के अनुसार, सत्ताधारी दल यानी भाजपा का प्रभुत्व एक बार फिर स्कूल बोर्ड समिति में दिखाई देगा. डीईओ के अपवाद के साथ, शेष 13 सदस्यों को सत्तारूढ़ पार्टी, भाजपा द्वारा नियुक्त किया जाएगा. जबकि कांग्रेस केवल एक सदस्य के साथ रह जाएगी. यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि समय-समय पर स्कूल बोर्ड के कांग्रेस सदस्य अहमदाबाद में 400 से अधिक स्कूलों में प्रशासनिक मुद्दों और छात्र सुविधाओं के लिए विरोध प्रदर्शन करते रहे हैं. लेकिन इस बार सवाल यह है कि अगर कांग्रेस के केवल एक सदस्य हैं तो विरोध कैसे हो सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज