लाइव टीवी

CAB पर अनिल विज- महात्मा गांधी पर भरोसा किया इसलिए PAK से नहीं लौट पाए थे हिंदू

Krishna Bali | News18 Haryana
Updated: December 10, 2019, 5:06 PM IST
CAB पर अनिल विज- महात्मा गांधी पर भरोसा किया इसलिए PAK से नहीं लौट पाए थे हिंदू
CAB पर अनिल विज का विवादित बयान

अनिल विज ने कहा कि बंटवारे से पहले बहुत से हिंदू महात्मा गांधी पर विश्वास करके हिंदुस्तान नहीं आ पाए थे, क्योंकि गांधी ने कहा था कि देश का बंटवारा उनकी लाश पर होगा.

  • Share this:
अंबाला. नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) लोकसभा में पास होने के बाद देशभर में सियासत गरमा गई है. बिल में मुस्लिम समुदाय (Muslim Community) का जिक्र न होने को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौरा भी शुरू हो गया है. वहीं कांग्रेस (Congress) इसे धर्म के आधार पर लिया गया फैसला बताकर संविधान के खिलाफ बता रही है,  जिसके बाद अब सूबे के गृह मंत्री अनिल विज ने मामले में बड़ा बयान देते हुए कहा कि हिंदुओं को भारत शरण नहीं देगा तो कौन देगा?

अनिल विज ने कहा कि बंटवारे से पहले बहुत से हिंदू महात्मा गांधी पर विश्वास करके हिंदुस्तान नहीं आ पाए थे, क्योंकि गांधी ने कहा था कि देश का बंटवारा उनकी लाश पर होगा. विज ने कहा कि आज वो लोग कहां जाएंगे.

'कांग्रेस ने धर्म के आधार पर किया बंटवारा'
हरियाणा के गृह मंत्री विज ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कांग्रेस ने हिंदुस्तान का बंटवारा धर्म के आधार पर करवाया था, जिसके बाद बहुत से मुस्लिम वहां नहीं गए, लेकिन उन्हें आज हमने अपना लिया है. विज ने कहा कि आज अगर पड़ोसी मुल्कों में प्रताड़ित हो रहे हिंदुओं को भारत शरण नहीं देगा तो और कौन देगा, क्योंकि हिंदुस्तान ही उनका मूल देश है.

ओवैसी पर साधा निशाना
नागरिकता संशोधन बिल की कॉपी फाड़ने वाले ओवैसी ने मामले को एक बार फिर बंटवारा बताया है. इस बात पर पलटवार करते हुए अनिल विज ने ओवैसी को बेहद गैर जिम्मेदार और अर्थ का अनर्थ करने वाला व्यक्ति करार दिया. विज ने कहा कि ओवैसी जो बात कर रहे हैं वो गलत है, क्योंकि बिल में मौजूदा समय में जो लोग हिंदुस्तान में रह रहे हैं, उन्हें लेकर कुछ नहीं कहा गया है.
 

ये भी पढ़ें:- रेवाड़ी: युवती की गोली मारकर हत्‍या, रेप की भी आशंका

ये भी पढ़ें:- गैंगस्टर अशोक राठी मर्डर केस: पुलिस ने 2 आरोपियों को किया गिरफ्तार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अंबाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 4:30 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर