लाइव टीवी

SC के फैसले पर विज का बयान, लोगों को अपनी बात रखने का अधिकार
Ambala News in Hindi

ETV Haryana/HP
Updated: November 29, 2017, 3:18 PM IST
SC के फैसले पर विज का बयान, लोगों को अपनी बात रखने का अधिकार
अनिल विज (फाइल फोटो)

राजपूत समाज द्वारा फिल्म पद्मावती को लेकर देशभर में चल रहे विरोध प्रदर्शन और भाजपा नेताओं द्वारा दिए जा रहे बयानों के बाद आज देश के सर्वोच्च न्यायालय सुप्रीम कोर्ट ने नेताओं को हिदायत दी कि वह इस फिल्म को लेकर बेवजह बयानबाजी ना करें और फिल्म देखने के बाद ही कोई बयान दें.

  • Share this:
राजपूत समाज द्वारा फिल्म पद्मावती को लेकर देशभर में चल रहे विरोध प्रदर्शन और भाजपा नेताओं द्वारा दिए जा रहे बयानों के बाद आज देश के सर्वोच्च न्यायालय सुप्रीम कोर्ट ने नेताओं को हिदायत दी कि वह इस फिल्म को लेकर बेवजह बयानबाजी ना करें और फिल्म देखने के बाद ही कोई बयान दें.

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद हमेशा से विवादों में रहने वाले हरियाणा के दबंग कैबिनेट मंत्री अनिल विज का तल्ख बयान सामने आया है. विज ने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के आदेशों को सर माथे पर रखते हैं, लेकिन सवाल यह है कि क्या अब उन्हें प्रतिक्रिया देने के लिए भी सुप्रीम कोर्ट से इजाजत लेनी पड़ेगी?

विज यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा की हम पिक्चर की बात नहीं कर रहे हम फिल्म में दिखाई जाने वाले कंटेंट की बात कर रहे हैं. पद्मावती एक वीरांगना थी जिसने 16000 स्त्रियों के साथ जोहर किया था ,  उसे नृत्यांगना बना कर दिखाया जा रहा है.



विज ने कहा प्रजातंत्र में अपनी बात कहने का संविधान ने अधिकार दे रखा है. विज ने आगे बोलते हुए कहा कि यह भी ठीक है कि बात शांतिपूर्ण तरीके से करनी चाहिए लेकिन, लोगों को अपनी बात रखने का अधिकार दिया हुआ है, जिसे दबाया नहीं जा सकता.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अंबाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2017, 3:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading