होम /न्यूज /हरियाणा /

हरियाणा: पूर्व DGP मनोज यादव की कार्यशैली से खफा थे अनिल विज, ACR में दिए महज 3.7 अंक!

हरियाणा: पूर्व DGP मनोज यादव की कार्यशैली से खफा थे अनिल विज, ACR में दिए महज 3.7 अंक!

अनिल विज पूर्व डीजीपी मनोज यादव के काम से खुश नहीं थे!

अनिल विज पूर्व डीजीपी मनोज यादव के काम से खुश नहीं थे!

Anil Vij News: अनिल विज ने बड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वो मक्खी पर मक्खी नहीं मारते, वो अधिकारी के कामकाज को देखकर लिखते हैं. सूबे के गृह मंत्री अनिल विज द्वारा एक बड़े IPS अधिकारी की ACR में महज 3.7 अंक देना अपने आप में अधिकारी की कार्यशैली पर बड़े सवालिया निशान खड़े करता है.

अधिक पढ़ें ...

अंबाला. आईपीएस ऑफिसर मनोज यादव (Manoj Yadav) की कार्यशैली से खफा सूबे के गृह मंत्री अनिल विज (Anil Vij) ने उनकी एसीआर (ACR) में महज 3.7 अंक दिए थे, जो कि औसत से भी बेहद कम हैं. एसीआर में 5 अंकों को बहुत खराब (Very Poor) माना जाता है. लेकिन मनोज यादव को सिर्फ 3.7 अंक अनिल विज ने दिए थे. जिसके बाद अनिल विज और मनोज यादव का मामला एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है.

बता दें कि किसान आंदोलन के दौरान प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज ने यह स्पष्ट कह डाला था कि IPS ऑफिसर मनोज यादव आंदोलन में कानून व्यवस्था संभालने में नाकाम रहे. वहीं मौजूदा समय की बात करें तो आईपीएस अधिकारी मनोज यादव आईबी में बड़े पद पर कार्यरत हैं. आईबी सरकार की वो सुरक्षा एजेंसी है जो सरकार को कई ख़ुफ़िया जानकारियां मुहैया करवाती है.

ऐसे में अब अनिल विज ने मनोज यादव की ACR में महज 3.7 अंक देकर यह स्पष्ट कर दिया है कि प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर वो मनोज यादव की कार्यशैली से संतुष्ट नहीं थे. विज द्वारा ACR में दिए गए अंक की रिपोर्ट भले ही कॉन्फिडेंशियल होती हो, मगर इस मामले में यह रिपोर्ट अब लीक हो चुकी है और कई अखबारों की सुर्खियां भी बन गई.

ऐसे में अनिल विज से जब IPS मनोज यादव की ACR को लेकर सवाल किया गया तो विज ने भी यही बतायायह रिपोर्ट कॉन्फिडेंशियल होती है, लेकिन वो जिस भी अधिकारी के बारे में लिखते हैं वह पूरी तरह अधिकारी की कार्यशैली और काम पर निर्भर होता है.  यहां अनिल विज ने बड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वो मक्खी पर मक्खी नहीं मारते, वो अधिकारी के कामकाज को देखकर लिखते हैं. सूबे के गृह मंत्री अनिल विज द्वारा एक बड़े IPS अधिकारी की ACR में महज 3.7 अंक देना अपने आप में अधिकारी की कार्यशैली पर बड़े सवालिया निशान खड़े करता है.

Tags: Anil Vij, Haryana news

अगली ख़बर