हरियाणा: पूर्व सूबेदार और कुश्ती में राष्ट्रीय स्वर्ण पदक विजेता की सैनिटाइजर पीने से मौत

सैनिटाइजर पीने से पहलवान की मौत
सैनिटाइजर पीने से पहलवान की मौत

अजय ने सेना (Army) में तीन साल सूबेदार के पद पर भी अपनी सेवाएं दीं, लेकिन उनका मन नहीं लगा और उन्‍होंने नौकरी छोड़ दी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 8:55 AM IST
  • Share this:
अंबाला. पूर्व सूबेदार और कुश्ती में राष्ट्रीय स्वर्ण पदक विजेता अजय ठाकुर (Ajay Thakur) की सैनिटाइजर (Sanitizer) पीने से मौत हो गई. अजय को करीब 11 माह पूर्व पंचकूला में हुई डकैती में क्राइम ब्रांच ने घटना के 8 माह बाद शक होने पर घर से गिरफ्तार किया था. इसके बाद से ही अजय परेशान थे और पिछले 3 माह से जेल में बंद अजय दो दिन से सैनिटाइजर पी रहे थे. हालात ज्यादा बिगड़ने पर नागरिक अस्पताल में इलाज के दौरान सोमवार को उसकी मौत हो गई.

मृतक के साथी हवालाती ने बताया था कि अजय पिछले दो दिन से सैनिटाइजर पी रहा था. रोकने पर भी वो नहीं माने. उन्‍होंने कैंटीन से सैनिटाइजर की दो बोतलें हाथ धोने की कह कर खरीदी थी. तबीयत बिगड़ने पर उसे नागरिक अस्पताल रेफर किया. जेल अधीक्षक ने भी मौत का यही कारण होने का शक जताया था.

तीन साल सूबेदार के पद पर भी अपनी सेवाएं दीं
बता दें कि हिमाचल प्रदेश स्थित नालागढ़ के सैनी माजरा निवासी अजय को राष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल मिला था. इतना ही नहीं उसने सेना में तीन साल सूबेदार के पद पर भी अपनी सेवाएं दीं, लेकिन उसका मन नहीं लगा और उन्‍होंने नौकरी छोड़ दी. अजय ने अपने दोस्त वीके राणा के साथ मिलकर सैनी माजरा में खोले गए बजरंग अखाडे़ में युवाओं को पहलवानी के दाव-पेंच सिखाने शुरू कर दिए.
शव को पोस्टमार्टम करवाया


इस समय भी अखाड़े में करीब दो दर्जन युवा ट्रेनिंग ले रहे हैं. मंगलवार को मजिस्ट्रेट के समक्ष हुई वीडियोग्राफी में डॉक्टरों के पैनल ने अजय के शव का पोस्टमार्टम कराया. हेड कांस्टेबल बलजीत सिंह के अनुसार मृतक के पिता बलवंत सिंह व दोनों चाचा ने उसकी मौत पर कोई संशय जताए बिना इसे बीमारी बताया. मृतक का एक बेटा और बेटी हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज