अंबाला: महिला IAS और उनकी टीम पर जानलेवा हमला, ड्राइवर-गनमैन घायल

ओवरलोडिड वाहनों की चैकिंग के दौरान IAS अधिकारी और टीम को दी जान से मारने की धमकी.
ओवरलोडिड वाहनों की चैकिंग के दौरान IAS अधिकारी और टीम को दी जान से मारने की धमकी.

एडीसी एवं आरटीए प्रीति ने कहा कि हरियाणा (Haryana) के गृहमंत्री अनिल विज (Anil Vij) के हस्तक्षेप के बाद पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 8:37 AM IST
  • Share this:
अंबाला. अवैध ओवरलोडेड वाहनों पर शिंकजा कसने में जुटीं आईएएस अधिकारी प्रीति पर जानलेवा हमला किया गया. इसमें आईएएस अधिकारी बाल-बाल बच गईं, लेकिन उनका ड्राइवर, गनमैन और अन्य कर्मचारी घायल हो गए. मामले की जानकारी देते हुए अंबाला (Ambala) में एडीसी एवं आरटीए प्रीति ने बताया कि आरटीए विभाग दोपहर से ही चेकिंग पर था. इस दौरान कई गाड़ि‍यां इम्पाउंड की गईं. उसी दौरान विभाग आगे की तरफ बढ़ा और ओवरलोडेड वाहन देखे तो उनका पीछा करके उन्हें रोकने की कोशिश की गई.

महिलीा अधिकारी ने बताया कि इस दौरान ये वाहन पंजाब की सीमा में दाखिल हो गए्. पंजाब बॉर्डर के करीब 100 मीटर से जब आरटीए की टीम वापस हरियाणा की तरफ मुड़ी तो ट्रांसपोटर्स अपने निजी वाहनों में आकर हमारी सरकारी गाड़ियों को घेर लिया. इस दौरान हमलावरों ने पत्थराव किया और लाठी-डंडों से आरटीए विभाग के सरकारी वाहन को बुरी तरह क्षति पहुंचाई. एडीसी के अनुसार, हमलावरों के पास पेट्रोल के कैन भी मौजूद थे. इस हमले में एडीसी का एक ड्राइवर व गनमैन को भी चोट पहुंची है. एडीसी की मानें तो इस हमले में 50 से 60 लोग शामिल थे, जिसमें कुछ की शिनाख्त भी हो गई है.

विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज
एडीसी एवं आरटीए प्रीति ने कहा कि हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज के हस्तक्षेप के बाद पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया. उन्होंने बताया कि हमलावरों ने धमकी दी कि यदि आरटीए (अंबाला) दोबारा किसी का चालान करने आया तो उसे जान से मार दिया जाएगा. यह सोची समझती साजिश के तहत हमला किया गया है, क्योंकि सुबह से टीम चालान कर रही थी और वह सुबह से टीम पर पूरी निगाहें रखे हुए थे. करीब 10-11 लोगों के चालान भी किए गए हैं.
जल्द होगी आरोपियों की गिरफ्तारी


मामले को गंभीरता से लेते हुए अंबाला पुलिस ने भी विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है. शिकायत के आधार पर कई ट्रांसपोटर्स सहित करीब 50 लोगों पर मामला दर्ज किया गया है. मामले की जांच जारी है और जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी कर ली जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज