हरियाणा की लेडी किसान, जो खेती बाड़ी कर पालती है परिवार का पेट

पिता के अचानक बीमार हो जाने के चलते और बड़े भाई की पढ़ाई को सुचारू रखने के लिए अमरजीत को ऐसा करना पड़ा. आज अमरजीत की वजह से ही उसका बड़ा भाई सरकारी नौकरी में है और उसकी शादी भी उसने ही अपनी मेहनत से करवाई है.

News18 Haryana
Updated: July 10, 2018, 10:55 AM IST
हरियाणा की लेडी किसान, जो खेती बाड़ी कर पालती है परिवार का पेट
लेडी किसान अमरजीत कौर
News18 Haryana
Updated: July 10, 2018, 10:55 AM IST
अंबाला के मुलाना में अधोई गांव की एक बेटी ने 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' का सार्थक अर्थ सिद्ध करते हुए पूरे क्षेत्र में अपनी और अपने परिवार की एक अलग पहचान बनाई है. पूरे इलाके में लेडी किसान के रूप में पहचानी जाने वाली अमरजीत कौर खुद खेत में अकेले फसल बोने से लेकर उसके तैयार होने के बाद फसल को काटकर खुद मंडी में बेच कर भी आती है.

इस वजह से बनी किसान

पिता के अचानक बीमार हो जाने के चलते और बड़े भाई की पढ़ाई को सुचारू रखने के लिए अमरजीत को ऐसा करना पड़ा. आज अमरजीत की वजह से ही उसका बड़ा भाई सरकारी नौकरी में है और उसकी शादी भी उसने ही अपनी मेहनत से करवाई है. अमरजीत से इलाके के लोग कब कौन सी और कैसे फसल बीजनी है इसकी जानकारी लेने आते हैं.

'नारी की चौपाल' में महिलाओं ने उपायुक्त से साझा की मन की बात

लेडी किसान अमरजीत कौर ट्रैक्टर चलाती हुई



पूरे परिवार की करती हैं देखरेख
Loading...

परिवार में माता पिता , एक बड़ा भाई भाभी व बच्चे हैं सभी की देखरेख अमरजीत खुद करती है. अमरजीत पढ़ाई भी करती हैं, घर का चूल्हा चोंका समान रूप से संभालती है और सुबह शाम खेती कर के परिवार का पेट पाल रही है. दरअसल दिसम्बर 2007 में अमरजीत के पिता बख्शीश सिंह डिप्रेशन से बिस्तर पर आ गये. परिवार पिता के इलाज और आर्थिक स्थिति में उलझ गया और खेती जिससे परिवार चलता था वो भी नहीं हो पा रही थी. जिसके बाद अमरजीत ने परिवार की सबसे छोटी बेटी होने के बाद भी बेटा बन खुद जिम्मेदारी संभाली ट्रैक्टर चलाना.

चंडीगढ़ में अब दो पहिया वाहनों पर महिलाओं को भी हेलमेट पहनना अनिवार्य

घर का हर काम भी करती हैं लेडी किसान

खेती कैसे हो इसके बारे में सिखा और परिवार को दिक्कतों से बाहर निकाल दिया. अमरजीत कौर ने बड़े भाई को पढ़ा लिखा कर सरकारी नौकरी तक पहुंचाया और मास्टर्स की डिग्री हासिल की. अमरजीत सुबह 5 बजे उठकर खेत संभालती है उसके बाद पशुओ को चारा डालती हैं और खाना बनाती है. इतना ही नहीं खाली समय में अमरजीत सिलाई कढाई का काम भी करती हैं.

पढ़ाई के साथ खेतीबाड़ी

मास्टर्स की डिग्री लेने के साथ अमरजीत खेती को अच्छे से जानती है. एक जिम्मेदार बेटी होने का फर्ज अमरजीत खूब निभा रही है. परिवार के लिए अमरजीत किसी बेटे से कम नही है. अमरजीत अकेले फसल बोने का काम करती है. उसके बाद फसल को कटवा कर फसल को बेचने के लिए मिल और मंडी में भी जाती है. वहां अमरजीत को अलग रिस्पेक्ट मिलती है. अमरजीत कि मां का कहना है कि अमरजीत ने खुद परिवार को संभाला और आज वो उनके लिए बेटे से ज्यादा है.

पूरे इलाके में अलग पहचान रखती हैं अमरजीत

अमरजीत अपने इलाके में होनहार बेटी के रूप में पहचान रखती है इलाके के लोग फसलों की जानकारी लेने पहुंचते हैं. लोग उनसे पूछते हैं कि कौन से बीज का इस्तेमाल करना है और फसल के लिए किस चीज का कब इस्तेमाल करना है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अंबाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 10, 2018, 10:47 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...