Home /News /haryana /

13 किसानों पर हत्या और दंगे के प्रयास का केस, हरियाणा के CM खट्टर को दिखाए थे काले झंडे

13 किसानों पर हत्या और दंगे के प्रयास का केस, हरियाणा के CM खट्टर को दिखाए थे काले झंडे

अंबाला में कृषि कानूनों से गुस्साए किसानों ने सीएम के काफिले का घेराव किया था.

अंबाला में कृषि कानूनों से गुस्साए किसानों ने सीएम के काफिले का घेराव किया था.

हरियाणा पुलिस (Haryana Police) ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Chief Minister Manohar Lal Khattar) के काफिले को घेरने के मामले में 13 किसानों पर केस दर्ज किया है. किसानों पर हत्या की कोशिश और दंगे से जुड़े आरोप में केस दर्ज किया है.

अधिक पढ़ें ...
    अंबाला. कृषि कानूनों की वापसी को लेकर दिल्ली में किसानों का आंदोलन जारी है. इस बीच हरियाणा पुलिस (Haryana Police) ने बुधवार को 13 किसानों के खिलाफ हत्या (Attempt to Murder) और दंगे के प्रयास का मामला दर्ज किया है. मामला प्रदेश के मुख्यमंत्री पर हमले का है. इन किसानों ने मंगलवार को अंबाला में केंद्र सरकार के नए कृषि कानून का विरोध करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) के काफिले को रोक कर काले झंडे दिखाए थे और लाठियां भी चलाई थीं. खट्टर आगामी निकाय चुनावों के लिए पार्टी के उम्मीदवारों के समर्थन में जनसभा को संबोधित करने के लिए शहर में आए थे.

    इन धाराओं में दर्ज हुआ केस
    अंबाला सिटी पुलिस ने 13 किसानों के खिलाफ आईपीसी की धारा 147 (दंगा), 148 (दंगाई, घातक हथियार से लैस), 149 (किसी भी गैरकानूनी गिरोह के किसी सदस्य द्वारा किया गया अपराध), 186 (सार्वजनिक कार्यों के निर्वहन में लोक सेवा को बाधित करना) के तहत किसानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है. इसके साथ ही आईपीसी की धारा 307 (हत्या का प्रयास), 353 (हमला या आपराधिक बल लोक सेवक को उसके कर्तव्य का निर्वहन करने से रोकने के लिए) और धारा 506 (आपराधिक धमकी के लिए सजा) भी लगाई है.

    MSP जारी रखने और कानूनों की वापसी पर डटे किसान, सरकार बोली- कृषि क्षेत्र में सुधार रहेगा जारी

    क्या है पूरा मामला?
    हरियाणा में इस समय में अंबाला, पंचकूला और सोनीपत नगर निगम के अलावा कई नगर परिषदों और पालिकाओं के चुनाव की प्रक्रिया जारी है. इसी के चलते मंगलवार को भाजपा उम्मीदवारों के लिए प्रचार के उद्देश्य से मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर अंबाला में पहुंचे थे.अंबाला में सबसे पहले उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक ली और इसके थोड़ी देर बाज जनसभा को संबोधित करने के लिए निकले थ. ठीक उसी वक्त किसान केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे और उन्होंने मुख्यमंत्री के काफिले को रोक लिया.

    सुबह से ही विरोध प्रदर्शन कर रहे थे किसान
    सीएम मनोहर लाल खट्टर के अंबाला आने की खबर लगने के साथ ही किसानों ने प्रदर्शन की तैयारी कर ली थी और इसी के चलते मंगलवार सुबह से ही शहर में स्थित नई अनाज मंडी में किसान इकट्ठा होना शुरू हो गए थे. सीएम के अंबाला पहुंचने के खबर के साथ ही किसानों ने कार्यक्रम स्‍थल की ओर कूच कर दिया और रास्ते में ही सीएम के ‌काफिले को घेर लिया.

    हरियाणा कांग्रेस ने कहा- सरकार ने पार की सभी हदें
    हरियाणा कांग्रेस प्रमुख कुमारी शैलजा ने कहा कि हरियाणा सरकार ने किसानों के खिलाफ मामला दर्ज करके सारी हदें पार कर दी हैं. कुमारी शैलजा ने कहा कि बीजेपी सरकार किसानों की आवाज को लगातार दबा रही है. लोगों का इस सरकार पर से भरोसा उठ गया है. यही वजह है कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल को किसानों ने काले झंडे दिखाए. उन्होंने कहा कि पहले भी राज्य सरकार ने किसानों के खिलाफ दमनकारी कार्रवाई की थी. तब भी उन्होंने पूछा था कि काले झंडे दिखाना हत्या का प्रयास कैसे है. उन्होंने कहा कि सरकार को किसानों के खिलाफ दर्ज मामलों को तुरंत वापस लेना चाहिए.

    Kisan Andolan LIVE Updates: कृषि कानूनों के खिलाफ मार्च निकालने की राहुल गांधी को नहीं मिली इजाजत, कांग्रेस दफ्तर के बाहर धार 144 लागू

    बहरहाल, पिछले काफी दिनों से हरियाणा, पंजाब और यूपी समेत कई राज्‍यों के किसान दिल्‍ली बॉर्डर पर केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ डेरा डाले हुए हैं. यही नहीं, किसानों और केंद्र सरकार के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन अब तक कोई ठोस नतीजा नहीं निकला है. वहीं, हरियाणा में किसानों के संगठन जगह जगह विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

    Tags: Agricultural Law, Ambala news, CM Manohar Lal Khattar, Haryana police, Kisan Andolan

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर