कृषि विधेयक का विरोध: सदोपुर बॉर्डर पर यूथ कांग्रेस का प्रदर्शन, पुलिस ने वाटर कैनन का किया इस्‍तेमाल, देखें Video

 अंबाला में यूथ कांग्रेस का कृषि बिल को लेकर हंगामा.
अंबाला में यूथ कांग्रेस का कृषि बिल को लेकर हंगामा.

कृषि बिल (Farm Bills 2020) को लेकर हरियाणा और पंजाब में जबरदस्‍त बवाल दिखाई दे रहा है. जबकि अंबाला के सदोपुर बॉर्डर पर पुलिस को प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए वाटर कैनन का इस्‍तेमाल करना पड़ा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2020, 4:12 PM IST
  • Share this:
अंबाला. केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि बिल (Farm Bills 2020) को लेकर कांग्रेस (Congress) मोदी सरकार (Modi Government) पर हमलावर हो गई है. जबकि इस बिल को लेकर हरियाणा और पंजाब में जबरदस्‍त बवाल दिखाई दे रहा है. इस बीच, अंबाला के सदोपुर बॉर्डर पर यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया और मौके पर मौजूद पुलिस को उन्‍हें रोकने के लिए वाटर कैनन का इस्‍तेमाल करना पड़ा.

आपको बता दें कि कृषि बिल को लेकर आज हरियाणा में 16-17 किसान संघों ने विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है और इसको देखते हुए राज्‍य के अधिकांश हिस्‍सों में भारी पुलिसबल तैनात किया गया है. वहीं, सदोपुर बॉर्डर को लेकर अंबाला के एसपी अभिषेक जोरवाल ने बताया कि यहां जगह-जगह बैरिकेडिंग की गई है, क्योंकि भारतीय किसान यूनियन ने विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है और हमारे पास पर्याप्त संख्या में बल मौजूद हैं.


केंद्र सरकार  द्वारा लागू किए जा रहे थे तीन विधेयकों के खिलाफ गोहाना में किसानों ने भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले रोहतक-पानीपत-चंडीगढ़ नेशनल हाइवे (National highway) 709 ए पर गांव रुखी में जाम लगा दिया. प्रदर्शनकारी किसान सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे. यह नेशनल हाइवे रोहतक से गोहाना और पानीपत से चंडीगढ़ को जोड़ता है. जाम के कारण वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई. इस दौरान किसानों ने सरकार पर जबरन तीन विधेयक थोपने का आरोप लगाया और कहा कि जब तक उनकी मांग पूरी नही होती, किसानों का प्रदर्शन जारी रहेगा.



दरअसल, बीते दिनों किसानों ने कृषि बिल को लेकर नेशनल हाइवे-44 को भी ब्‍लॉक कर दिया था. वहीं, 10 सितंबर को कृषि अध्यादेशों के विरोध में हरियाणा के कुरुक्षेत्र जिले के पीपली मंडी परिसर में किसान बचाओ रैली बुलाई गई थी, जिसमें प्रदेश भर के किसान जुटे थे. कोरोना संक्रमण के चलते सरकार ने इस रैली के लिए अनुमति नहीं दी थी. जबकि महम विधायक बलराज कुंडू (Balraj Kundu) को भी समर्थकों सहित हिरासत में लिया गया था.

यही नहीं, कांग्रेस सांसद व पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसे कृषि-विरोधी ‘काला कानून’ कहा है. विपक्ष के दूसरे नेता भी केन्द्र सरकार पर जुबानी हमला बोल रहे हैं. इसके अलावा सड़क पर कई किसान संगठन प्रदर्शन के लिए भी उतर गए हैं. किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली पुलिस भी अलर्ट मोड पर है और पड़ोसी राज्य के किसानों को दिल्ली की सीमा पर ही रोकने की तैयारी की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज