अंबाला में आसमान छू रहे सब्जियों के दाम, आलू 40, टमाटर 50 तो धनिया 200 रुपए किलो

अंबाला में सब्जियों के दाम बढ़ने से गृहिणियां परेशान.

अंबाला में सब्जियों के दाम बढ़ने से गृहिणियां परेशान.

अंबाला की सब्जी मंडी (Ambala Sabji Mandi) में पिछले 10 दिनों में आलू, टमाटर, शिमला मिर्च जैसी सब्जियों के दाम  (Vegetable Price Hike) कई गुना बढ़े. बढ़ती कीमतों के कारण खरीदार और विक्रेता दोनों परेशान. महिलाओं ने कहा- बिगड़ रहा है किचेन का बजट.

  • Share this:
अंबाला. सब्जियों के दाम अगस्त के आखिरी सप्ताह में आसमान (Vegetable Price Hike) छूते जा रहे हैं. लगातार बढ़े दामों से महिलाओं के किचन का बजट बिगड़ता जा रहा है. COVID-19 का असर सबसे ज्यादा सब्ज़ियों की कीमतों पर ही पड़ता नजर आ रहा है. जहां पहले लोग 100 रुपए में झोला भर सब्जी खरीद ले जाते थे, वहीं अब आलू, टमाटर, हरा धनिया, शिमला मिर्च के दाम सुनकर होश उड़ रहे हैं. अंबाला की सब्जी मंडी (Sabji Mandi) में 5 से 10 रुपए किलो बिकने वाला आलू 35 से 40, शिमला मिर्च 50, फ्रेंच बीन 50, भिंडी 40, घीया 40, टमाटर 50, प्याज 25, गोबी 70, हरी मिर्च 30 से 40 रुपए मिल रहा है. यहां तक कि सब्जियों के साथ मिलने वाला हरा धनिया भी 200 रुपए किलो बिक रहा है.

सब्जी मंडी से बाहर बिकने वाली सब्जियों के दाम पिछले 2 सप्ताह में 2 गुना तक बढ़ गए हैं. मंडी में सब्जी लेने आए लोगों ने कहा कि कोरोना की वजह से पहले ही अन्य सामान के दाम बढ़ रहे हैं, ऊपर से सब्जियों के महंगी होने से जीना मुश्किल हो गया है. लोगों ने बताया कि 10 दिन पहले तक सब्जी के दाम ठीक थे, मगर आज तो हर सब्जी के भाव आसमान छू रहे हैं. लोगों ने कहा कि सरकार को इस तरफ जल्दी ध्यान देना चाहिए.

महिलाओं ने कहा- कीमतों ने बिगाड़ा बजट

सब्जी खरीदने आई स्थानीय महिला ने कहा कि सब्जी मंडी के बाहर तो दाम में आग लगी हुई है, इसलिए मंडी में सब्जियां खरीदने आना पड़ा. लेकिन यहां पर भी सब्जी बहुत महंगी मिल रही है. एक अन्य महिला ने बताया कि महंगे दाम की वजह से किचेन का बजट बिगड़ता जा रहा है. लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से पहले ही काम-धंधा बंद है, ऊपर से सब्जी की कीमतों ने हालत पतली कर दी है.
सब्जी विक्रेता भी हैं परेशान

ऐसा नहीं है कि सब्ज़ियों के बढ़े हुए दामों से सिर्फ खरीदार ही परेशान हैं, बल्कि खुद सब्ज़ी बेचने वाले भी बिक्री घटने से चिंता में हैं. अंबाला सब्जी मंडी के कई विक्रेताओं ने कहा कि दाम बढ़ने से खरीदारों का आना कम हो गया है. इस कारण दोहरी परेशानी होती है, एक तरफ लोग सब्जी नहीं खरीद रहे, वहीं हरी सब्जियां एक से दो दिन में खराब होने लगती हैं. इससे हमें दोहरा नुकसान झेलना पड़ता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज