लाइव टीवी

पराली व पटाखे जलाने से भिवानी की हवा भी हुई दूषित, धुआं से धुंधला हुआ शहर

Jagbir Ghangas | News18 Haryana
Updated: November 2, 2019, 6:59 AM IST
पराली व पटाखे जलाने से भिवानी की हवा भी हुई दूषित, धुआं से धुंधला हुआ शहर
पराली जलाने वालों पर सख्त हुआ अमेठी जिला प्रशासन, उड़नदस्ता टीम करेगी निगरानी

परेशान लोगों व बच्चों ने बताया कि इस धुएं से उन्हे सांस लेने में परेशानी हो रही है. आंखों में जलन हो रही है. घर से निकलते ही तबीयत बिगड़ने लग रही है.

  • Share this:
भिवानी. पराली जलाने (Burning Straw) और दीपावली (Deepawali) के बाद से दिल्ली (Delhi) व गुरुग्राम (Gurugram) की आबोहवा रोजाना बिगड़ रही है. अब इसका असर भिवानी (Bhiwani) तक पहुंच गया है. भिवानी शहर में पिछले तीन चार रोज से आबोहवा हर रोज जहरीली (Polluted Air) होते जा रही है. दो-तीन रोज जहां सुबह-शाम धुएं का गुब्बार होता था वहीं शुक्रवार को तो दोपहर में भी जहरीले धुएं से शाम जैसा नजारा था. चारों तरफ धुआं ही धुंआ दिख रहा था. धुआं भी इतना की सूरज भी साफ दिखाई नहीं दे रहा था. ऐसे में पूरा शहर धुंधला दिखने लगा.

आंखों में जलन व सांस लेने में दिक्कत

परेशान लोगों व बच्चों ने बताया कि इस धुएं से उन्हे सांस लेने में परेशानी हो रही है. आंखों में जलन हो रही है. लोगों ने बताया कि घर से निकलते ही तबीयत बिगड़ने लग रही है. बीमार होने का डर रहता है. डॉक्टर कहते हैं घर से मत निकलो पर ये संभव नहीं है. घर से नहीं निकलेंगे तो घर कैसे चलेगा.

मरीजों की संख्या तीन गुणा बढ़ी

भिवानी में चिकित्सक विनोद अंचल ने बताया कि जहरीली हवा से आंखों व सांस के मरीजों में तीन गुणा बढ़ोतरी हो गई है. ये जहरीला धुआं बच्चों, बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं व सांस के मरीजों के लिए बहुत खतरनाक है. आम आदमी को इस दूषित हवा के प्रति सावधानी बरतनी चाहिए और ज्यादा जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलना चाहिए. उन्होंने कहा कि दीपावली के बाद हवा जहरीली हो गई है.

भरी दोपहर में जहरीले धुएं के गुब्बार से शाम जैसा नजारा हो गया.


दोपहर में शाम जैसा नजारा
Loading...

बता दें कि एयर क्वालिटी इंडेक्स 100 माइक्रोग्राम प्रति मिट्रिक क्यूब तक होना चाहिए, लेकिन ये पिछले तीन चार दिनों से रोजाना बढ़ रहा है. शुक्रवार की बात करें तो भिवानी में एयर क्वालिटी इंडेक्स 250 से भी पार था. भरी दोपहर में जहरीले धुएं के गुब्बार से शाम जैसा नजारा था. ये सब दीपों के पर्व दीपावली पर हुई आतिशबाजी का नतीजा है. साथ ही अब खेतों में धान की पराली भी जलनी शुरू हो गई है. ऐसे में सावधानी बरतें और ज्यादा परेशानी होने पर चिकित्सक से सलाह लें.

ये भी पढ़ें - विधायक दल के नेता का चुनाव अब सोनिया गांधी करेंगी, विधायक से ली गई राय

ये भी पढ़ें - उधार पैसे नहीं लौटा पाने के कारण मिल रही थी जान की धमकी, कर ली आत्महत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भिवानी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 2, 2019, 6:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...