लाइव टीवी

ओलंपिक कोटा के साथ पूरा हुआ हरियाणा के बॉक्सर मनीष का सपना, बोले- अब पहले से ज्यादा मेहनत करूंगा
Bhiwani News in Hindi

Jagbir Ghangas | News18 Haryana
Updated: March 18, 2020, 2:40 PM IST
ओलंपिक कोटा के साथ पूरा हुआ हरियाणा के बॉक्सर मनीष का सपना, बोले- अब पहले से ज्यादा मेहनत करूंगा
बॉक्सर मनीष

मनीष ने कहा कि विजेन्द्र सिंह (Vijender Singh) का ओलंपिक मेडल (Olympic Medal) आने के बाद मेरे भी मन में जिज्ञासा हुई और कोच की प्रेरणा व मेहनत से आज ओलंपिक कोटा हासिल हुआ.

  • Share this:
भिवानी. ओलंपिक मुक्केबाज विजेन्द्र से प्रेरणा लेकर मुक्केबाजी (Boxing) के मैदान में उतरे भिवानी के लाल मनीष कौशिक (Manish Kaushik) का सबसे बड़ा सपना पूरा हो गया है. ओलंपिक कोटा हासिल करने के बाद पहली बार भिवानी पहुंचे मनीष कौशिक ने कहा कि कोटा हासिल होने के बाद बहुत खुशी है और कौशिश करूंगा कि देश की झोली में मेडल डालूं.

बता दें कि 24 वर्षिय गांव देवसर निवासी मनीष कौशिक ने 63 किलोग्राम भार वर्ग में ओलंपिक कोटा हासिल किया है. पूरे देश के 9 बॉक्सर इस बार ओलंपिक खेलेंगे जिनमें से तीन भिवानी के हैं. इन्हीं तीनों में एसे के ओलंपिक मुक्केबाज बने हैं मनीष कौशिक. मनीष के मन में विजेन्द्र सिंह का ओलंपिक मैडल आने के बाद मुक्केबाजी को लेकर जिज्ञासा जागी और उसने 2008 में मुक्केबाजी शुरु की.

भिवानी पहुंचने पर मनीष का भव्य स्वागत हुआ. इस अवसर पर मनीष कौशिक ने बताया कि ओलंपिक कोटा हासिल होने के बाद बेहद खुशी है. मनीष ने कहा कि अब पहले से ज्यादा और कड़ी मेहनत करके कौशिश करूंगा की देश को ओलंपिक मेडल दिलाऊं. उन्होने अपने परिजनों व कोच मंजीत को इस मुकाम तक पहुंचाने पर आभार जताया.



युवाओं को दी नसीहत



मनीष ने कहा कि विजेन्द्र सिंह का ओलंपिक मेडल आने के बाद मेरे भी मन में जिज्ञासा हुई और कोच की प्रेरणा व मेहनत से आज ओलंपिक कोटा हासिल हुआ. मनीष ने नशे की बढ़ते प्रचलन पर कहा कि हर युवा और खिलाड़ी को नशे के नुकसान से बचना चाहिए. मेहनत करेंगे तो अपने आप नशे की तरफ से ध्यान हट जाएगा.

कोच ने कही ये बात

वहीं मनीष के कोच मंजीत ने बताया कि मनीष अब सुबह शाम दो-दो घंटे अभ्यास करता है. पर अब पटियाला में पहले से ज्यादा और कड़ी मेहनत करेगा. कोच का कहना है कि मनीष शुरु से अपनी हर कमी को ठीक करने का प्रयास करता है. उन्होंने बताया कि हमने मनीष को ओलंपिक का सपना दिखाया था, जिसे सुन कर वो हंसता और मजाक मान कर दुखी हो जाता, लेकिन आज उसकी मेहनत रंग लाई है और उसका सपना पूरा हुआ है. कोच का कहना है कि अब मनीष जरूर मेडल लेकर ही लौटेगा.

ये भी पढ़ें:बड़े जल संकट की कगार पर रेवाड़ी, कुमारी शैलजा ने राज्यसभा में उठाया मुद्दा 
First published: March 18, 2020, 2:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading