Black Fungus in Haryana: भिवानी में ब्लैक फंगस के 10 केस, क़ाबू पाने के लिए युद्ध स्तर पर तैयारी शुरू

मुख्यमंत्री ने कहा कि बीमारी का इलाज करने वाले सरकारी और निजी अस्पतालों/ मेडिकल कॉलेजों को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों का पालन करना होगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि बीमारी का इलाज करने वाले सरकारी और निजी अस्पतालों/ मेडिकल कॉलेजों को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों का पालन करना होगा.

Bhiwani News: कोरोना के कहर के साथ अब ब्लैक फंगस का कोहराम. जिला में ब्लैक फंगस के 10 केस आने पर मचा हड़कंप.

  • Share this:

भिवानी. कोरोना महामारी के कहर के बीच अब ब्लैंक फंगस महामारी का कोहराम शुरू हो गया है. ब्लैक फंगस (Black Fungus) के अकेले भिवानी (Bhiwani) में 10 केस मिलने पर प्रशासन अलर्ट हो गया है और डीसी जयबीर सिंह आर्य ने शिक्षा बोर्ड में कंट्रोल रूम स्थापित कर शिक्षा बोर्ड सचिव राजीव प्रसाद केस इंचार्ज बनाया गया है. यहां से कोरोना से ठिक हुये लोगों से फ़ोन से संपर्क कर ब्लैक फंगस के लक्षणों की जानकारी जुटाई जाएगी, ताकि समय रहते प्रभावित व्यक्ति का इलाज करवाया जा सके.

कोरोना के प्रकोप से झुझ रहा भिवानी जिला अब ब्लैक फंगस का कहर झेल रहा है. ब्लैक फंगस को प्रदेश सरकार ने महामारी घोषित कर दिया है. साथ ही जिला प्रशासन भी अलर्ट बोल गया है. डीसी जयबीर सिंह आर्य ने पुष्टी की है कि जिला में ब्लैक फंगस के 10 केस सामने आए. जिस पर क़ाबू पाने के लिए हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड में ब्लैक फंगस के मरीजों की पहचान कर उनका तुरंत इलाज कर इस महामारी पर क़ाबू पाने के लिए कंट्रोल रूम बनाया गया है और शिक्षा बोर्ड सचिव राजीव प्रसाद को कंट्रोल रूम का नोडल अधिकारी नियुक्त किया है.

कंट्रोल रूम के नोडल अधिकारी राजीव प्रसाद कंट्रोल रूम की कमान संभाल चुके हैं. वो यहाँ हर जरूरी निर्देश जारी कर रहे हैं. राजीव प्रसाद ने कहा कि कंट्रोल रूम में पाँच लाइन स्थापित की है, जिन से कोरोना से ठिक हुये लोगों से संपर्क कर ब्लैक फंगस के लक्षणों की जानकारी ली जा रही है. उन्होंने बताया कि प्राथमिकता अप्रैल व मई माह में ठिक हुये लोगों को फ़ोन कर जानकारी जुटाए जा रही है. क्योंकि ब्लैक फंगस के लक्षण अप्रेल माह से सामने आए हैं. राजीव प्रसाद ने बताया कि कोरोना से ठिक हुये किसी भी व्यक्ति में ब्लैक फंगस के लक्षण मिले तो सीएमओ के माध्यम से उसे तुरंत रोहतक पीजीआई या हिसार के अग्रोहा मैडिकल कॉलेज में उपचार के लिए भर्ती करवाया जाएगा.

बता दें कि भिवानी जिला में अब तक कोरोना के 19 हजार से ज़्यादा केस सामने आ चुके हैं जिनमें से 16 हजार से ज़्यादा ठिक हुये हैं. भिवानी में बीते कुछ रोज़ से कोरोना का कहर कम होना शुरू हुआ था, लेकिन ब्लैक फंगस के कोहराम ने सबको हैरान और प्रेशान कर दिया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज