Home /News /haryana /

हरियाणा: आंदोलन खत्म करने की बजाय तेज करने में जुटे किसान, लखनऊ में होने वाली महापंचायत के लिए झोंकी ताकत

हरियाणा: आंदोलन खत्म करने की बजाय तेज करने में जुटे किसान, लखनऊ में होने वाली महापंचायत के लिए झोंकी ताकत

किसानों से रिकॉर्ड संख्या में लखनऊ पहुँचने की अपील.

किसानों से रिकॉर्ड संख्या में लखनऊ पहुँचने की अपील.

Kisan Aandolan: मोर्चा इस बात पर अड़ा है कि पहले कानून संसद में रद्द करो, फिर MSP गारंटी बिल लेकर आओ और बिजली संशोधन बिल वापस लो, फिर वह संघर्ष वापस लेंगे और अपने घरों को लौटेंगे. इसी कारण लखनऊ में महापंचायत होने जा रही है, जिसका असर यूपी चुनाव पर पड़ने वाला है.

अधिक पढ़ें ...

भिवानी. पीएम मोदी द्वारा माफी मांगते हुए तीनों कृषि कानून (Three Agricultural Laws) वापस लेने की घोषणा के बाद भी किसान अपने आंदोलन (Kisan Aandolan) को खत्म करने की बजाय और तेज करने के मूड़ में हैं. इसके लिए सबसे पहले कल लखनऊ में होने वाली किसान महापंचायत के लिए किसान नेताओं ने ताक़त झोंक दी है. भारतीय किसान यूनियन के युवा प्रदेश अध्यक्ष रवि आज़ाद ने वीडियो जारी कर कहा है कि कल लखनऊ में होने वाली किसान महापंचायत में रिकॉर्ड संख्या में पहुंचने की अपील की है और कहा है कि ये महापंचायत आंदोलन को नई ताकत देगी और भाजपा पर वोट की चोट मारने का काम करेगा.

इसके साथ ही रवि आज़ाद ने कहा है कि जब तक तीनों कृषि क़ानून रद्द करने के लिए संसद में प्रकिया शुरू नहीं होती, एमएसपी की गारंटी का क़ानून नहीं बनता और किसानों पर दर्ज फ़र्ज़ी मुक़दमे वापस नहीं होते, तब तक कियान घर वापसी की बजाय अपने आंदोलन को और तेज कर जारी रखेंगे.

उम्मीद जताई जा रही थी कि पीएम मोदी की इस बड़ी घोषणा के बाद किसान आंदोलन ख़त्म होगा, लेकिन ऐसा हुआ नहीं. बल्कि पीएम की माफी व घोषणा के बाद किसान नेताओं में अपनी जीत मानते हुये आंदोलन में पहले से ज़्यादा ताक़त लगा दी है.

वहीं दिल्ली में बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन को अब आगे और कैसे बढ़ाया जाना है, इस पर फैसला आज आएगा. संयुक्त किसान मोर्चा की अहम बैठक दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर आज हो रही है. बैठक के बाद फैसलों का ऐलान कर दिया जाएगा. इसमें फैसला लिया जाना है कि संघर्ष को आगे कैसे बढ़ाया जाएगा.

संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से पहले से तय किए गए कार्यक्रम के अनुसार उत्तर प्रदेश के लखनऊ में किसानों की महापंचायत होने जा रही है, जिसे बरकरार रखा गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार में लगे हैं. ऐसे में उनके द्वारा कृषि कानून रद्द करने का कोई खास फायदा होता नजर नहीं आ रहा है.

Tags: Kisan Aandolan, Kisan Protest

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर