भिवानी में स्वतंत्रता दिवस के दिन किसान संगठन ने तीन अध्यादेशों के खिलाफ छेड़ा आंदोलन
Bhiwani News in Hindi

भिवानी में स्वतंत्रता दिवस के दिन किसान संगठन ने तीन अध्यादेशों के खिलाफ छेड़ा आंदोलन
यूनियन ने कहा कि ये तीनों अध्यादेश कृषि विरोधी हैं. (सांकेतिक चित्र)

कृषि (Agriculture) से जुड़े तीन अध्यादेश के विरोध में भारतीय किसान यूनियन का ये आंदोलन था. यूनियन ने चेतावनी देते हुए कहा कि ये तो सिर्फ शुरुआत है. मांग पूरी नहीं हुई तो आगे आंदोलन और भी बड़ा व कड़ा होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 15, 2020, 5:25 PM IST
  • Share this:
भिवानी. एक तरफ जब पूरा देश स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) पर जश्न मना रहा था, तब दूसरी तरफ भिवानी (Bhiwani) सहित पूरे प्रदेश में किसान संगठन (farmers' organization) आंदोलन कर रहे थे. भारतीय किसान यूनियन का ये आंदोलन कृषि (Agriculture) से जुड़े तीन अध्यादेश (ordinances) के विरोध में था. यूनियन ने चेतावनी देते हुए कहा कि ये तो सिर्फ शुरुआत है. मांग पूरी नहीं हुई तो आगे आंदोलन और भी बड़ा व कड़ा होगा.

तीनों अध्यादेश की प्रतियां जलाईं

यूनियन ने कहा कि कई बार के आंदोलन व ज्ञात-अज्ञात हजारों लाखों लोगों की कुर्बानी व बलिदान के बाद हमारा देश 15 अगस्त को आजाद हुआ. उन कुर्बानियों को याद करते हुए हमसब आजादी का जश्न मनाते हैं. भिवानी में भी जिलास्तर पर स्वतंत्रता दिवस मनाया गया. जहां एक तरफ लोग आजादी के जश्न में डूबे थे, वहीं दूसरी तरफ भारतीय किसान यूनियन कृषि से जुड़े तीन अध्यादेश लागू होने पर आंदोलन कर रही थी. यूनियन के जिला प्रधान राकेश आर्य के नेतृत्व में किसानों ने तीनों अध्यादेशों की प्रतियां जलाईं और तहसीलदार के माध्यम से पीएम मोदी के नाम ज्ञापन सौंप कर इन तीनों अध्यादेशों को रद्द करने की मांग की.



इन्हें भी पढ़ें :
सरपंच के पति मनोज डागर की मौत, थाने के सामने बदमाशों ने मारी थी गोली

हरियाणा मौसम: दक्षिण पश्चिम मानसून सक्रिय, 15 अगस्‍त तक तेज बारिश का अनुमान

बड़े आंदोलन की चेतावनी

भारतीय किसान यूनियन के जिला प्रधान राकेश आर्य ने बताया कि केन्द्र सरकार ने कृषि से जुड़े जो तीन अध्यादेश लागू किये हैं वे किसानों व व्यापारी दोनों को बर्बाद करने वाले हैं. उन्होंने कहा कि इससे किसानों की फसलों का एमएसपी व मंडियां खत्म हो जाएंगी. उन्होंने कहा कि सरकार को तुरंत ये अध्यादेश खत्म करने चाहिए. साथ ही कहा कि आज तो केवल चेतावनी दी है. अगर ये अध्यादेश खत्म नहीं हुए तो आगे और भी बड़ा व कड़ा आंदोलन किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading