भिवानी की पहली महिला कंडक्टर बनीं प्रीती, कहा- लड़कियां किसी से कम नहीं

आत्मविश्वास ने लाबरेज प्रीति का कहना है कि आज लड़कियां किसी भी फिल्ड में लडकों से कम नहीं हैं. प्रीति ने कहा कि ओलंपिक जैसे खेलों में भी लड़कियां सबसे आगे हैं.

Jagbir | News18 Haryana
Updated: December 8, 2018, 3:21 PM IST
भिवानी की पहली महिला कंडक्टर बनीं प्रीती, कहा- लड़कियां किसी से कम नहीं
प्रीती, भिवानी की पहली महिला कंटक्टर
Jagbir | News18 Haryana
Updated: December 8, 2018, 3:21 PM IST
हरियाणा में भिवानी के हालुवास गांव की रहने वाली प्रीती भिवानी की पहली महिला कंडक्टर बन गई हैं. शनिवार को एसडीएम सतीश कुमार ने प्रीती को कंडक्टर का नियुक्ति पत्र सौंपा. प्रीति भिवानी की पहली लडकी हैं जिन्हें कंडक्टर का नियुक्ति पत्र मिला है. हालांकि अब तक हरियाणा की 8 बेटियां कंडक्टर बनी हैं. एसडीएम ने नियुक्ति पत्र सौंपते हुए कहा कि आज बेटियां किसी भी स्थान पर बेटों से कम नही हैं. सरकार का ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ का नारा फलीभूत हो रहा है.

जिले से सटे गांव हालूवास की रहने वाली प्रीति 41 लडकों के साथ अकेली ऐसी लडक़ी है जिसे आज एसडीएम सतीश कुमार ने कंडक्टर का नियुक्ति पत्र सौंपा है. आत्मविश्वास ने लाबरेज प्रीति का कहना है कि आज लड़कियां किसी भी फिल्ड में लडक़ों से कम नहीं हैं. प्रीति ने कहा कि ओलंपिक जैसे खेलों में भी लड़कियां सबसे आगे हैं.

‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ का नारा अब केवल नारा नही रहा है. भिवानी के हालुवास गांव निवासी प्रीति ने अपनी मेहनत और लगन से इस नारे को साकार करते हुए बेटियों के लिए रोल मॉडल बनने का काम किया है.

यह भी पढ़ें- नाबालिग भतीजी से चाचा ने किया रेप, बीमार होने पर पीड़िता ने डॉक्टर को बताई आपबीती

यह भी पढ़ें- ऑनर किलिंग: बहन की हत्या करने वाले भाई को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सज़ा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर