भिवानी-महेंद्रगढ़ संसदीय क्षेत्र: जिस पार्टी का बना सांसद उसी की बनी केंद्र में सरकार

भिवानी-महेंद्रगढ़ सीट पर जाट और यादव मतदाताओं का प्रभाव है भिवानी-महेंद्रगढ़ को पूर्व सीएम बंसी लाल का गढ़ कहा जाता है.

Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: May 19, 2019, 2:29 PM IST
भिवानी-महेंद्रगढ़ संसदीय क्षेत्र: जिस पार्टी का बना सांसद उसी की बनी केंद्र में सरकार
भिवानी उम्मीदवार
Pardeep Sahu
Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: May 19, 2019, 2:29 PM IST
भिवानी-महेंद्रगढ़ लोकसभा सीट 2008 में अस्तित्व में आई. इससे पहले भिवानी और महेंद्रगढ़ अलग-अलग लोकसभा सीट थीं।.भिवानी-महेंद्रगढ़ सीट अभी भाजपा के कब्जे में है. धर्मबीर सिंह यहां से सांसद हैं. चर्चित ये भी है कि जिस पार्टी का यहां सांसद बनता है, उसकी ही केंद्र में सरकार आती है. 2009 में यहां से कांग्रेस की श्रुति चौधरी जीती तो केंद्र में मनमोहन सरकार रिपीट हुई. 2014 में धर्मबीर ने जीत दर्ज की तो नरेंद्र मोदी की सरकार दिल्ली में बनी.

भिवानी-महेंद्रगढ़ सीट पर जाट और यादव मतदाताओं का प्रभाव है भिवानी-महेंद्रगढ़ को पूर्व सीएम बंसी लाल का गढ़ कहा जाता है. भिवानी से बंसी लाल तीन बार और उनके बेटे सुरेंद्र सिंह दो बार सांसद रह चुके हैं. कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी बंसीलाल की बहू और सुरेंद्र सिंह की पत्नी हैं तो श्रुति चौधरी पोती व बेटी.



बीते चुनाव में श्रुति को करारी हार का सामना करना पड़ा था। इस बार दादा के गढ़ में पोती का फिर कड़ा इम्तिहान है. चूंकि, उनके सामने दोबारा भाजपा सांसद धर्मबीर हैं। जजपा ने यहां से अमेरिका रिटर्न स्वाति यादव को उतारा है. इनेलो से बलवान सिंह मैदान में हैं, जिससे मुकाबला रोचक है.

छह विधानसभा क्षेत्र भाजपा के कब्जे में

भिवानी-महेंद्रगढ़ लोकसभा सीट में भिवानी, दादरी, बाढड़ा, तोशाम, लोहारू, अटेली, महेंद्रगढ़, नारनौल और नांगल चौधरी 9 विधानसभा क्षेत्र आते हैं. इनमें से पांच विधानसभा क्षेत्र लोहारू, बाढड़ा, दादरी, भिवानी और तोशाम जिला भिवानी में हैं, जबकि 4 विधानसभा क्षेत्र अटेली, महेंद्रगढ़, नारनौल और नांगल चौधरी महेंद्रगढ़ में आते हैं.

भिवानी जिला जाट बहुल, तो महेंद्रगढ़ में यादव ज्यादा

भिवानी जिले की पांचों विधानसभा सीटें जाट बहुल हैं, वहीं महेंद्रगढ़ जिले के चारों विधानसभा क्षेत्र में यादव मतदाताओं की ज्यादा संख्या है. इस सीट के अंतर्गत करीब 3,60,000 जाट वोटर्स हैं तो यादव (अहीर) वोटर्स की संख्या लगभग 2,60,000 है. यहां 1,34,000 ब्राह्मण वोटर्स भी हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें-

सिद्धू का कैप्टन पर वार, बोले- बेअदबी करने वालों पर कार्रवाई नहीं हुई तो दे दूंगा इस्तीफा

धर्मेंद्र बोले- जनता का काम करवाने के लिए कैप्टन के साथ लगाऊंगा ‘पटियाला पैग’

चुनाव मैदान में है पति-पत्नी का यह जोड़ा, क्या संसद में मिलेगी एक साथ एंट्री?
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...