लाइव टीवी

सहरावत खाप का फैसला: भ्रूण हत्या, मृत्यु भोज, डीजे, बाल विवाह, हर्ष फायरिंग पर लगाया बैन
Bhiwani News in Hindi

Sunil Jindal | News18 Haryana
Updated: February 2, 2020, 6:52 PM IST
सहरावत खाप का फैसला: भ्रूण हत्या, मृत्यु भोज, डीजे, बाल विवाह, हर्ष फायरिंग पर लगाया बैन
पंचायत में मौजूद लोगों ने एक सुर में गांव में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर जोर दिया.

समाज के लोगों को शिक्षा का महत्व (Importance of education) बताते हुए खाप प्रतिनिधियों ने कहा कि समाज के युवा कम से कम 12वीं पास जरूर हों ताकि समाज (Society) की साक्षरता दर बढ़ाई जा सके. इसके लिए एक आठ सदस्यीय कमेटी भी बनाई गई है.

  • Share this:
सोनीपत. गोहाना में सहरावत खाप ने एक पंचायत (Panchayat) कर समाज की भलाई के लिए कई ऐतिहासिक फैसले (Historical decisions) लिए. इन फैसलों के तहत कई बुरी प्रथाओं (Bad practices) पर बैन लगा दिया गया है. सहरवात खाप के लोगों ने बेटी-बचाओ, बेटी-पढ़ाओ अभियान को आगे बढ़ाते हुए कन्या भ्रूण हत्या, डीजे पर पाबंदी, बाल विवाह पर प्रतिबंध, शादियों में फिजूलखर्ची खत्म करने के साथ हर्ष फायरिंग पर रोक की शपथ लेते हुए समाज के लोगों के लिए मृत्यु भोज पर पूर्ण रूप से पाबंदी लगा दी है. इसके अलावा समाज के लोगों को शिक्षा का महत्व (Importance of education) बताते हुए खाप प्रतिनिधियों ने कहा कि समाज के युवा कम से कम 12वीं पास जरूर हों ताकि समाज की साक्षरता दर बढ़ाई जा सके. इसके लिए एक आठ सदस्यीय कमेटी भी बनाई गई है.

सामाजिक बुराइयों को खत्म करने का उद्देश्य

बता दें कि गोहाना के जागसी गांव में रविवार को सहरावत खाप ने एक पंचायत का आयोजन किया जिसमें सहरावत खाप के अलावा और भी कई खापों के प्रति निधि इस पंचायत में पहुंचे. पंचायत की अध्यक्षता सहरावत खाप की तरफ से डॉ. संदीप सहरावत ने करते हुए कहा कि सहरावत खाप का इस पंचायत का
मुख्य उदेश्य सामाजिक बुराइयों को ख़त्म करना है. उन्होंने इस पंचायत में मौजूद लोगों से सामाजिक कुरीतियों पर अंकुश लगाने के लिए विचार रखने को कहा.

शादियों में फिजूलखर्ची पर रोक

पंचायत में मौजूद प्रतिनिधियों ने आपस में चर्चा कर मुख्य बिंदुओं को चिह्नित कर नशा, कन्या भ्रूण हत्या, विवाह-शादी में डीजे बजाने आदि पर रोक लगाने का समर्थन किया. पंचायत में इसके अलावा और भी कई फैसले लिए गए. शादियों में फिजूलखर्ची खत्म करने के साथ-साथ हर्ष फायरिंग पर रोक की शपथ लेते हुए समाज के लोगों के लिए मृत्यु भोज पर पूर्ण रूप से पाबंदी लगा दी गई. पंचायत में बैठे लोगों ने कहा कि आज शादियों में डीजे पर लोग शराब पीके लड़ाई झगड़ा करते हैं जिसके कारण गांव में हालात खराब होते जा रहे हैं. ज्यादातर युवा नशे की ओर बढ़ते जा रहे हैं.

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर जोर दियाबता दें कि पंचायत में मौजूद लोगों ने एक सुर में गांव में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर जोर दिया तो वहीं मृत्यु भोज, दहेज प्रथा, कन्या भ्रूण हत्या पर रोक लगाने के लिए कहा. इस पर सभी गांव के लोगों ने सहमति जताते हुए अपने-अपने गांवों में सामाजिक कुरीतियों को खत्म करने का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि हरियाणा में आज जाट समाज के लोगों को शादी के लिए बहू बाहर से लानी पड़ रही है. इसे समाज के लिए शर्मनाक बताते हुए कहा गया कि हमें बेटे की चाह समाप्त करनी होगी और कन्या भ्रूण हत्या पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाना होगा.

ये भी पढ़ें - केंद्रीय बजट में सिंचाई प्रणाली को व्यवस्थित रखने का प्रयास किया गया : दुष्यंत

ये भी पढ़ें - रविदास जयंती के आयोजन को लेकर हुआ खूनी संघर्ष, कई घायल, मकान फूंका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भिवानी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 2, 2020, 6:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर