Home /News /haryana /

मुस्लिम बहुल मेवात में भगवा फहराने को बीजेपी ने बनाया है ये 'एम' प्लान

मुस्लिम बहुल मेवात में भगवा फहराने को बीजेपी ने बनाया है ये 'एम' प्लान

एक वक्त वो भी था जब मेवात की पहचान क्राइम करने वाले कुछ गिरोह के तौर पर की जाती थी. लेकिन अब मेवात अपनी उस पुरानी पहचान को धो चुका है. (प्रतीकात्मक फोटो)

एक वक्त वो भी था जब मेवात की पहचान क्राइम करने वाले कुछ गिरोह के तौर पर की जाती थी. लेकिन अब मेवात अपनी उस पुरानी पहचान को धो चुका है. (प्रतीकात्मक फोटो)

ऐसा नहीं है कि मेवात (Mewat) में पहली बार मुस्लिम उम्मीदवारों (Muslim Candidate) को बीजेपी (BJP) ने टिकट दिया है. इससे पहले भी बीजेपी की टिकट पर मुस्लिम उम्मीदवारों चुनाव लड़ा है. लेकिन इस बार जिस तरह से मौजूदा विधायकों को उम्मीदवार बनाया गया है उससे ये सीट चर्चा में आ गई हैं.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. हरियाणा विधानसभा (Haryana Assembly Election) का चुनाव इस बार कई मायनों में दिलचस्प है. सीएम मनोहर लाल खट्टर (CM Manohar lal Khattar) की जहां ये दूसरी पारी हो सकती है तो पार्टी के कुछ दिग्गजों को किनारे कर दिया गया है. लेकिन इससे भी ज्यादा दिलचस्प ये है कि बीजेपी (BJP) हरियाणा के एक खास ज़िले में दो सीटों को जीतने का ताना बाना मुसलमानों (Musalman) के भरोसे बुन रही है. इस ज़िले में सीट और टिकट वितरण का समीकरण भी ऐसे बनाया गया है कि बीजेपी से टिकट पाने वाले मुस्लिम उम्मीदवारों (Muslim Candidate) को लेकर ठोस दावे किए जा रहे हैं.

    इस ज़िले की यह हैं वो खास सीट

    हरियाणा के मेवात को मुस्लिम बहुल इलाका कहा जाता है. इसी ज़िले की नूंह और फिरोज़पुर झिरका सीट पर बीजेपी ने दो मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया है. नूंह से जहां सियासत के पुराने खिलाड़ी किर हुसैन तो फिरोज़पुर झिरका सीट से नसीम अहमद पर बीजेपी ने भरोसा जताया है. हालांकि मेवात की ही पुन्हाना सीट पर पूर्व विधायक रहीस को भी टिकट दिए जाने की चर्चाएं चल रहीं थी, लेकिन ऐन वक्त पर एक गैर मुस्लिम महिला को टिकट दे दिय गया.

    बीजेपी ने इसलिए लगाया नसीम और ज़ाकिर पर दांव

    मेवात के वरिष्ठ पत्रकार राजुउद्दीन का कहना है, “नूंह से बीजेपी उम्मीदवार ज़ाकिर हुसैन को सियासत का तोहफा विरासत में मिला है. उनके पिता तीन अलग-अलग राज्यों पंजाब, राजस्थान और हरियाणा से चुनाव लड़कर कैबिनेट मिनिस्टर बने थे. वहीं दूसरी ओर ज़ाकिर हिन्दू-मुस्लिम की 36 बिरादरी के चौधरी भी हैं. कांग्रेस ने यहां से आफताब को टिकट दिया है. इससे पहले ज़ाकिर हुसैन सोहना में जीत हासिल करते रहे हैं.”

    चुनावों के दौरान ऐसी भी चर्चाएं हें कि यह चुनाव मेवात के भविष्य को भी तय करेगा. (प्रतीकात्मक फोटो)


    बीजेपी ने लगाए एक तीर से दो निशाने

    वरिष्ठ पत्रकार राजुउद्दीन ने बताया, “ज़ाकिर हुसैन को टिकट देकर बीजेपी ने एक तीन से दो निशाने साधे हैं. उनका मेव बिरादरी में भी अच्छा दखल है. जबकि इससे पहले वो सोहना विधानसभा से चुनाव जीत चुके हैं. सोहना सीट मुस्लिम बहुल बताई जाती है. बीजेपी ने इस बार वहां से संजय सिंह को टिकट दिया. अब संजय सिंह नूंह में ज़ाकिर हुसैन के लिए गैरमुस्लिम वोटों की लामबंदी कर रहे हैं तो ज़ाकिर हुसैन सोहना में संजय सिंह के लिए मुस्लिम वोटों की. जबकि कांग्रेस के डॉ. शम्सउद्दीन इस सीट से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. लेकिन उन पर बाहरी होने का ठप्पा लगा हुआ है.”

    नसीम अहमद के भरोसे इनेलो से सीट छीनने की जुगत में है बीजेपी

    फिरोजपुर झिरका विधानसभा भी मेवात ज़िले में ही आती है. यहां से बीजेपी ने इनेलो छोड़कर आए मौजूदा विधायक नसीम अहमद को अपना उम्मीदवार बनाया है. 2014 में नसीम ने इस सीट पर जीत दर्ज कराई थी, जबकि बीजेपी उम्मीदवार 16540 वोट लेकर तीसरे स्थान पर रहा था. यह सीट मुस्लिम बहुल बताई जाती है. राजुउद्दीन बताते हैं, “नसीम अहमद जिस गोत्र से आते हैं उसके यहां एक लाख वोट हैं. जबकि इस सीट पर कुल वोटों की संख्या 2.60 लाख है. जबकि एक अच्छा नम्बर बीजेपी के वोटरों का भी है.”

    ये भी पढ़ें- 

    चलती ट्रेन की सील बंद बोगी से गायब हो गई बाइक

    यह कैसी मजबूरी: यूपी में सिर्फ 3 फीट चौड़े सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं बच्चे, देखें Video

    कौन है स्टूडेंट इस्लामिक ऑर्गेनाइजेशन, जिसने जेएनयू छात्र नजीब को लेकर किया ये ऐलान

    Tags: All India Congress Committee, BJP, Haryana Assembly Election 2019, Haryana Election 2019, Muslim

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर