अपना शहर चुनें

States

हरियाणा में बनाई जाएंगी 2000 योगशालाएं, महीने का पहला रविवार योग दिवस के रूप में मनाया जाएगा

YOGA: यह मुख्यत: एक संस्कृत शब्द है, जिसका मतलब मिलन या संगम होता है. हिंदू मान्यताओं में इस शब्द का प्रयोग ईश्वरीय संगम के संदर्भ में होता है. इसके अंतर्गत ध्यान, सांसों पर संयम और विभिन्न शारीरिक मुद्दाओं में आसन करने जैसी प्रक्रियाएं आती हैं. वर्तमान में इसका शारीरिक व्यायाम वाला अंश दुनियाभर में प्रचलित हो चुका है. 19वीं शताब्दी के दौरान यह शब्द अंग्रेजी भाषा में प्रचलित हुआ. (फोटो- News18)
YOGA: यह मुख्यत: एक संस्कृत शब्द है, जिसका मतलब मिलन या संगम होता है. हिंदू मान्यताओं में इस शब्द का प्रयोग ईश्वरीय संगम के संदर्भ में होता है. इसके अंतर्गत ध्यान, सांसों पर संयम और विभिन्न शारीरिक मुद्दाओं में आसन करने जैसी प्रक्रियाएं आती हैं. वर्तमान में इसका शारीरिक व्यायाम वाला अंश दुनियाभर में प्रचलित हो चुका है. 19वीं शताब्दी के दौरान यह शब्द अंग्रेजी भाषा में प्रचलित हुआ. (फोटो- News18)

हरियाणा (Haryana) में अब महीने का पहला रविवार योग दिवस (Yoga Day) के तौर पर मनाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 2, 2020, 4:10 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. हरियाणा सरकार आने वाले दिनों में योग को स्कूली पाठ्यक्रम में लागू करने वाली है. इसकी जानकारी हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज (Anil Vij) ने दी. विज ने कहा कि हरियाणा में 2000 योगशालाएं बनाने को लेकर सहमति बनी है. यहीं नहीं हरियाणा (Haryana) में अब महीने का पहला रविवार योग दिवस के तौर पर मनाया जाएगा. विज ने कहा कि आज की बैठक में स्वामी रामदेव मुख्यमंत्री मनोहर लाल समेत अन्य लोग मौजूद थे.

हरियाणा सरकार अब योग परिषद को योग आयोग बनाने जा रही है. योग आयोग बनने से उसमें ज्यादा शक्तियां होंगी और योग को हरियाणा में पूरी तरह से लागू किया जा सकेगा. वहीं स्वामी रामदेव ने कहा कि पहले लोगों को योग की इतनी जानकारी नहीं थी, लेकिन आज पूरा विश्व योग कर रहा है.

स्वामी रामदेव ने कही ये बात
स्वामी रामदेव ने कहा कि धरती गोल है इसलिए हर देश में सूर्य उदय का समय अलग है. ऐसे में कोई सुबह तो कोई शाम को योग कर रहा है. उन्होंने कहा कि विश्व की आबादी करीब आठ सौ करोड़ है, जिसमें से चार सौ करोड़ लोग योग कर रहे हैं.
दुनिया केवल योग से बचेगी


योग अब लोगों की जीवनशैली बन गया है. स्वामी रामदेव ने कहा कि दुनिया केवल योग से ही बचेगी. मजहब और राजनीति से बचने वाली नहीं है. उनका राजनीति से कोई सरोकार नहीं है. वह एक योगी हैं और योग अध्यात्म है. जिससे दुनिया का भला होगा वही कर रहे हैं. कुछ लोग कहते हैं कि वह पतंजलि योगपीठ को बढ़ा रहे हैं. उन्होंने स्पष्ट किया कि पतंजलि हमारे ऋषि मुनि का नाम है. वह उन्हीं के नाम को आगे बढ़ा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज