चंडीगढ़: पंजाब यूनिवर्सिटी की 22 वर्षीय लॉ छात्रा पर पिटबुल कुत्ते का हमला, कई जगह काटा

पंजाब यूनिवर्सिटी की 22 वर्षीय लॉ स्टूडेंट को पिटबुल कुत्ते ने काटा

पंजाब यूनिवर्सिटी की 22 वर्षीय लॉ स्टूडेंट को पिटबुल कुत्ते ने काटा

Chandigarh News: पीड़ित छात्रा अपने पालतू कुत्ते को घुमाने के लिए घर से बाहर लेकर गई थी. तभी पड़ोसी के पिटबुल कुत्ते (Pitbull Dog) ने हमला कर दिया. उसके शरीर पर कई जगह काट लिया. इस घटना से छात्रा बुरी तरह सदमे में आ गई है और डर गई है.

  • Share this:

चंडीगढ़. मोहाली के न्यू चंडीगढ़ मुल्लांपुर की आईएस पीसीएस सोसायटी में रहने वाली 22 वर्षीय युवती पर पिटबुल कुत्ते (Pit bull Dog) ने हमला कर दिया और उसकी छाती, बाजू व घुटनों को काट खाया. पिटबुल कुत्ते का शिकार हुई युवती की पहचान इशिता के रुप में हुई है, जोकि पंजाब युनिवर्सिटी (Punjab University) में लॉ फाइनल ईयर की स्टूडेंट हैं.पीड़ित लडक़ी की मां हरप्रीत कौर पाल ने बताया कि हालांकि यह घटना 24 मई की शाम को हुई थी, पर उनकी बेटी अभी तक सदमें से बाहर नहीं आ पाई है.

बताया जा रहा है कि इशिता पर एडीशनल डिस्ट्रिक्ट जज अमृतसर के परिवार द्वारा पाले गए अमेरिकन बूली (पिटबुल) ने हमला किया था. उन्होंने बताया कि उनकी बेटी अपने पालतू कुत्ते को घुमाने के लिए घर से बाहर लेकर गई थी. पिटबुल के मालिकों ने अपने घर का गेट खुला छोड़ा हुआ था. उसने कहा कि उसी दौरान पिटबुल ने उनके पालतू कुत्ते पर हमला कर दिया. जब उनकी बेटी ने उसे बचाने का प्रयास किया तो क्रूर पिटबुल ने उनकी बेटी इशिता के घुटने, दाहिनी कोहनी व पेट के दाहिने हिस्से को काट लिया. हरप्रीत कौर पाल ने कहा कि बेशक पिटबुल के इस हमले को देखकर कुछ साइकिल सवार राहगीर भी रुक गए थे. लेकिन डर के कारण वह भी उसकी बेटी की मदद नहीं कर सके.

घटना के खौफ और सदमें से उबर नहीं पा रही बेटी

हरप्रीत कौर ने कहा कि घटना के बाद वे अपनी बेटी को इलाज के लिए अस्पताल ले गए. उसने कहा कि पिछले तीन दिनों से उसकी बेटी जो लॉ की स्टूडेंट है सदमें से बाहर नहीं आ पा रही है और इन दिनों घर से बाहर भी नहीं निकल रही हैं. उन्होंने कहा कि इस मामले में एसएसपी के पास पिटबुल मालिक के खिलाफ शिकायत देंगे और साथ ही एक शिकायत हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस को भी देने का फैसला किया है. क्योंकि उच्च न्यायालय ने पिटबुल कुत्तों की लापरवाही व उनके खतरे के खिलाफ कार्रवाई के लिए वर्ष 2019 में क्रिमिनल रिट पटीशन- 153 के तहत एक कानून निर्धारित किया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज