मौत पर पर्दा ! गुरुग्राम में कोविड प्रोटोकॉल से हुए 85 दाह संस्कार, सरकारी आंकड़ों में बताई 10 मौतें

हरियाणा में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा बढ़ रहा है

हरियाणा में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा बढ़ रहा है

Deaths Due To Corona: संस्कार करवाने वाले पंडित की मानें तो कोरोना काल मे यह सबसे भयावह दौर है.

  • Share this:
गुरुग्राम. साइबर सिटी गुरुग्राम (Gurugram) के मदनपुरी स्थित श्मशानघाट में एक के बाद एक कोरोना संक्रमण से जूझते 55 से 60 शवों का अंतिम संस्कार (Cremation) किया जा चुका है. जबकि 25 से 30 शवों का अंतिम संस्कार अभी किया जाना बाकी है. पिछले एक सप्ताह से रोजाना श्मशान घाट में कोरोना से मरने वालो के शव करीब 75 से 80 की संख्या में आ रहे हैं. जबकि गुरुग्राम में सरकारी आंकड़ों में एक दिन में महज 10 लोगों की मौत है. रोजाना करीब 80 से 85 लोगों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है. वहीं  श्मशान घाट में जगह कम पड़ी तो पार्किंग एरिया में अंतिम संस्कार किया जा रहा है.

महाआपदा का यह खौफनाक मंजर न तो गुरुग्राम के रहने वाले किसी शख्स ने पहले देखा था और न कोई इसके बाद देख पायेगा. वहीं अपनों को खोए परिजनों की मानें तो अगर मेरे भाई बाप बेटे या सगे संबंधी को सही समय पर इलाज मिल जाता तो आज आज हमारे अपने अज़ीज हमारे बीच में होते.

वहीं मदनपुरी के इस श्मशान घाट में राज आचारज(संस्कार करवाने वाले पंडित) की मानें तो कोरोना काल मे यह सबसे भयावह दौर है. जब हर किसी को कहा जा रहा है कि अस्थियां कल सुबह ही यानी फूल चुन लें जाएं. क्योंकि शमशान में हर रोज कोरोना संक्रमित मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. प्रशाशन ने भी अब कोरोना के मरीजों के अंतिम संस्कार के लिए अब 5 श्मशान घाटों को मंजूरी दी है जबकि इससे महल सिर्फ 3 जगह ही अंतिम संस्कार किये जा रहे थे.

वहीं इस दौरान साइबर सिटी के उन तमाम दर्जनों मृतकों के परिजनों ने मौजूदा सरकारी व्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े कर बस यही कहा कि अगर सही समय पर इलाज मिला होता तो आज हमारे अपने हमारे बीच मे होते. लगातार होती मौतों के बाद मृतको के परिजनों ने जहां एंबुलेंस सेवा पर आपदा को अवसर में तब्दील कर 2/5 किलोमीटर तक के 5 हज़ार से 15 हज़ार तक वसूलने गंभीर आरोप लागये. वहीं गंभीर सवाल भी खड़ा किया कि साइबर सिटी और मिलेनियम सिटी जैसे अत्याधुनिक शहरों का यह सूरते हाल है तो बाकी इलाकों के क्या हाल होंगे इसका अंदाज़ा लगाया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज