गुरुग्राम: कोरोना की मार के बाद बढ़ती महंगाई ने निकाला जनता का तेल; रिफाइंड, सब्जी, फल सब हुआ महंगा

महंगाई ने बढ़ाई लोगों की टेंशन

Inflation in Gurugram: गुरुग्राम के लोगों ने कहा कि मोदी जी कांग्रेस से तंग आकर आपको वोट दिया था. अब जाए तो जाए कहां?

  • Share this:
गुरुग्राम. साइबर सिटी में लगातार बढ़ती महंगाई (Inflation) से जनता के बीच त्राहिमाम जैसी स्थिति बनती का रही है. डीजल पेट्रोल के बाद सरसों के तेल, रिफाइंड, दाल, सब्ज़ी जैसी रोजमर्रा के इस्तेमाल में आने वाली चीजों के दाम आसमान छूने में लगे हैं. वहीं आम जनता की मानें तो कांग्रेस के घोटालों से परेशान हो उन्होंने मोदी जी को वोट दिया था. लेकिन अब मोदी सरकार (Modi Government) भी कांग्रेस की राह पर चलने में लगी है. कोरोना ने पहले ही आम जनता को परेशान किया हुआ है. ऐसे में महंगाई ने आग में घी डालने जैसा काम कर दिया है.

वहीं सदर बाजार में खरीदारी करने पहुंची महिलाओं की मानें तो पहले वे सरसो तेल का रिफाइंड का 15 लीटर का टीन खरीदा करती थीं. लेकिन अब 2 किलो का डब्बा खरीदना पड़ रहा. लोग पूछ रहे हैं कि सरसो का तेल तो इंटरनेशनल मार्केट पर निर्भर नहीं है. ऐसे में सरसों तेल के दाम क्यों आसमान छूने में लगे ह.

100 रुपये लीटर सरसों का तेल अब 190 से 200 रुपये लीटर तक जा पहुंचा है. जबकि सरसो की फसल की आवक अभी मार्केट में आई ही है. रिफाइंड का रेट 12 सौ रुपये 16 लीटर के टीन का था जो अब बढ़ कर 2200 से 2300 रुपये प्रति 15 लीटर टीन बिक रहा है.

वहीं इसमे देखने वाली बात यह भी की इस विकराल होती महंगाई के पीछे हर रोज पेट्रोल, डीजल में दामों में लगातार होती बढ़ोतरी है या फिर जमाखोरी का काला कारोबार.. यानी जो किसान कहने में लगे है कि अगर मंडियां प्राइवेट हुई तो खामियाजा आम आदमी को ही भुगतना पड़ेगा जैसे कारण तो नहीं है.