हरियाणा में कोरोना से लड़ने के लिए सेना करेगी मदद, मुहैया करवाएगी डॉक्टर और अस्पताल

हरियाणा में कोरोना का कहर लगातार जारी है.

हरियाणा में कोरोना का कहर लगातार जारी है.

कोविड वैक्सीन (Corona Vaccine) के खराब होने के बारे एक अंग्रेजी समाचारपत्र में हरियाणा (Haryana) की स्थिति के बारे छपे समाचार पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जो रिपोर्ट छपी है, जो गलत है.

  • Share this:
चंडीगढ़. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल (Manohar Lal) ने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 महामारी से संक्रमित मरीजों के लिए दवाइयां, ऑक्सीजन (Oxygen) व अन्य सुविधाएं मुहैया करवाने के पुख्ता प्रबन्ध किए गये हैं. एहतियात के तौर पर कल सायं 6 बजे से भीड़भाड़ वाले बाजारों में गैर-आवश्यकत वस्तुओं वाली दुकानें बंद करने का निर्णय लिया है. मुख्यमंत्री ने हरियाणा मंत्रिमण्डल की बैठक के बाद जानकारी दी. उन्होंने कहा कि भारतीय सेना ने भी मदद की पहल की है. डीआरडीओ द्वारा पानीपत व हिसार में 500-500 बेड की व्यवस्था की जा रही है. चण्डीमंदिर के सेना कमांडर से भी बातचीत हुई है. डॉक्टर व अन्य सुविधाएं सेना द्वारा उपलब्ध करवाई जाएंगी.

अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी पर मुख्यमंत्री ने कहा कि पानीपत ऑक्सीजन प्लांट से हरियाणा व दिल्ली के अलावा अन्य राज्यों को की जाने वाली आपूर्ति में कुछ कठिनाई आई थी, अब उसका समाधान कर लिया गया है. प्रधानमंत्री से इस सम्बन्ध में उनकी बातचीत भी हुई थी. मुख्यमंत्री ने कहा कि पानीपत ऑक्सीजन प्लांट से ट्रकों में ऑक्सीजन भरने के लिए रोस्टर बना दिया गया है. अब से एक ट्रक हरियाणा के लिए और दो ट्रक दिल्ली व पंजाब के लिए भरे जाएंगे. उन्होंने कहा कि वे स्वयं पानीपत प्लांट की मोनिटरिंग कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने इस बात की भी जानकारी दी कि आज रात 10 बजे से आज प्रात: 6 बजे तक दिल्ली को 140 मीट्रिक टन ऑक्सीजन पानीपत प्लांट से दी गई है. दिल्ली के मुख्यमंत्री  अरविंद केजरीवाल का भी फोन आया था और उन्होंने भी इस पर सन्तुष्टि जताई  है. उन्होंने बताया कि पानीपत प्लांट में प्रतिदिन 260 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता है, जिसमें से 140 मीट्रिक टन दिल्ली के लिए तथा 80 मीट्रिक टन हरियाणा के लिए निर्धारित है तथा 20 मीट्रिक टन पंजाब के लिए है.

उन्होंने कहा कि हरियाणा को राजस्थान के भिवाड़ी  प्लांट से भी 20 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जाती है. कल उसमें कुछ दिक्कतें आई थी, आज वे राजस्थान के मुख्यमंत्री से भी बातचीत करेंगे. कोरोना मरीजों के लिए वैंटीलेटर वाले बेड की स्थिति के बारे पूछे गये एक प्रश्न के उत्तर में मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरुग्राम व फरीदाबाद में बेड की उपलब्धता ऑनलाइन कर दी गई है.
गुरुग्राम के एसजीटी मैडिकल कॉलेज में 500 बेडों की व्यवस्था कर दी गई है. इसके अलावा, वहां के इंडस्ट्रीयल एरिया में 150 बैड की व्यवस्था की जा रही है और 50 बैड की व्यवस्था आज हो गई है.            उन्होंने कहा कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी के बारे पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी अस्पतालों में कल 1000 रेमडेसिविर एंजेक्शन की आपूर्ति की गई थी और सरकारी अस्पतालों में इसकी आपूर्ति और बढ़ाई जाएगी. उन्होंने कहा कि प्राइवेट अस्पताल इसकी व्यवस्था अपने स्तर पर करते हैं.

उन्होंने कहा कि समाज को जागरूक करने की आवश्यकता है. महामारी जैसी स्थिति में भी अगर कोई कालाबाजारी करता है, तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. प्राइवेट अस्पतालों में अस्पताल की स्थिति के अनुसार वैंटीलेटर बैड के चार्जिज 8000 रुपये से 18,000 रुपये तक निर्धारित हैं. यदि कोई अस्पताल इससे ज्याद चार्ज करता है तो शिकायत मिलने पर उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी.

मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि किसी उद्योग को महामारी के चलते बंद नहीं किया जाएगा, बल्कि अधिक भीड़भाड़ वाले इलाकों में उद्योगों का संचालन निर्धारित कोविड प्रोटोकोल के अनुरूप किया जाएगा. उन्होंने कहा कि शादी-समारोह व अन्य सामाजिक कार्यक्रमों के लिए दिशा निर्देश जारी किए गये हैं. मैरिज पैलेस के अन्दर 50 व्यक्तियों की तथा बाहर खुले के लिए 200 व्यक्तियों तक की अनुमति है. इसी प्रकार, दाह-संस्कार के लिए 20 व्यक्तियों की अनुमति है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज