• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • हरियाणा विधानसभा बजट सत्र के तीसरे दिन भी सदन में छाया रहा किसानों का मुद्दा

हरियाणा विधानसभा बजट सत्र के तीसरे दिन भी सदन में छाया रहा किसानों का मुद्दा

हरियाणा विधानसभा बजट सत्र के तीसरे दिन भी सदन में किसानों का मुद्दा ही छाया रहा। शून्य काल के दौरान विपक्षी दलों ने सरकार से खराब हुई फसलों पर किसानों को बीस से पच्चीस हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजे की मांग की। हांलाकि सरकार मुआवजा राशि को लेकर कोई भी साफ जवाब देने से बचती नजर आई। जिस पर कांग्रेस और इनेलो ने किसानों को जल्द और उचित मुआवजा देने की मांग की।

हरियाणा विधानसभा बजट सत्र के तीसरे दिन भी सदन में किसानों का मुद्दा ही छाया रहा। शून्य काल के दौरान विपक्षी दलों ने सरकार से खराब हुई फसलों पर किसानों को बीस से पच्चीस हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजे की मांग की। हांलाकि सरकार मुआवजा राशि को लेकर कोई भी साफ जवाब देने से बचती नजर आई। जिस पर कांग्रेस और इनेलो ने किसानों को जल्द और उचित मुआवजा देने की मांग की।

हरियाणा विधानसभा बजट सत्र के तीसरे दिन भी सदन में किसानों का मुद्दा ही छाया रहा। शून्य काल के दौरान विपक्षी दलों ने सरकार से खराब हुई फसलों पर किसानों को बीस से पच्चीस हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजे की मांग की। हांलाकि सरकार मुआवजा राशि को लेकर कोई भी साफ जवाब देने से बचती नजर आई। जिस पर कांग्रेस और इनेलो ने किसानों को जल्द और उचित मुआवजा देने की मांग की।

  • Share this:
हरियाणा विधानसभा बजट सत्र के तीसरे दिन भी सदन में किसानों का मुद्दा ही छाया रहा। शून्य काल के दौरान विपक्षी दलों ने सरकार से खराब हुई फसलों पर किसानों को बीस से पच्चीस हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजे की मांग की। हांलाकि सरकार मुआवजा राशि को लेकर कोई भी साफ जवाब देने से बचती नजर आई। जिस पर कांग्रेस और इनेलो ने किसानों को जल्द और उचित मुआवजा देने की मांग की।

सदन में विपक्ष के शोरगुल के बीच मुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार इस आपदा को लेकर गंभीर है और मुसीबत की इस घड़ी में सरकार किसानों के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि मुआवजे को लेकर केन्द्रीय कृषि मंत्री को भी पत्र लिखा है, ताकि केन्द्र सरकार फसलों के नुकसान का निरीक्षण करे और प्रदेश को मदद मुहैया कराए। हांलाकि किसानों को कितनी मुआवजा राशि दी जाएगी। इस बात पर सरकार और उसके मंत्री कोई भी साफ जवाब नहीं दे सके। फिलहाल सदन में किसानों के मुद्दे पर चर्चा और राजनीति तो बार बार हो रही है, लेकिन आफत में फंसे किसानों को इस चर्चा का कितना फायदा मिल पाएगा ये आने वाला वक्त ही बता पाएगा।

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

 

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज