Home /News /haryana /

बरगाड़ी बेअदबी केस: राम रहीम पूछताछ के लिए नहीं जाना चाहता फरीदकोर्ट, हाईकोर्ट में लगाई गुहार

बरगाड़ी बेअदबी केस: राम रहीम पूछताछ के लिए नहीं जाना चाहता फरीदकोर्ट, हाईकोर्ट में लगाई गुहार

रंजीत सिंह की 2002 में हत्या हुई थी. मामले में सिरसा डेरा प्रमुख राम रहीम को उम्रकैद दी गई है. (फाइल फोटो)

रंजीत सिंह की 2002 में हत्या हुई थी. मामले में सिरसा डेरा प्रमुख राम रहीम को उम्रकैद दी गई है. (फाइल फोटो)

Bargadi sacrilege case: राम रहीम (Ram Rahim) ने अपनी याचिका में फरीदकोट कोर्ट के आदेश को रद्द करने के साथ-साथ कोर्ट द्वारा जारी प्रोडक्शन वारंट को चुनौती दी है. राम रहीम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये पेश करने या फिर जेल में आकर पूछताछ करने का आदेश देने की गुहार लगाई है. इस मामले पर हाईकोर्ट में आज सुनवाई होगी. इस मामले में राम रहीम ने अग्रिम जमानत याचिका (anticipatory bail petition) भी डाली है.

अधिक पढ़ें ...

    चंडीगढ़. बरगाड़ी बेअदबी मामले में फरीदकोट की अदालत से गुरमीत राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim) को गिरफ्तार कर प्रोडक्शन वारंट पर लाने के आदेश के बाद राम रहीम ने अग्रिम जमानत के लिए हाईकोर्ट से गुहार लगाई है. इस याचिका में राम रहीम ने अपील की है कि एसआईटी इस मामले में उनसे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए या फिर जेल में आकर उनसे पूछताछ करे. राम रहीम ने फरीदकोट कोर्ट के आदेशों को रद्द करने के साथ-साथ कोर्ट द्वारा जारी किए वारंट को चुनौती दी है और एंटीसिपेटरी बेल भी डाली है. अब इस मामले में पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट (Punjab-Haryana Highcourtt) में गुरुवार यानि आज सुनवाई होगी.

    बता दें कि गांव बुर्ज जवाहर सिंह वाला के गुरुद्वारा साहिब से श्री गुरुग्रंथ साहिब जी के पावन स्वरूप की चोरी और बाद में इसकी बेअदबी के मामले में जांच कर रही एसआईटी ने इस मामले में राम रहीम से पूछताछ की अनुमति मांगी थी. एसआईटी के निवेदन पर फरीदकोट की ट्रायल कोर्ट ने डेरा मुखी गुरमीत राम रहीम को प्रोडक्शन वारंट पर लाने की अनुमति देते हुए उसे 29 अक्टूबर को न्यायालय में पेश करने का आदेश दिया था. वहीं इस मामले में एसआईटी ने पहले से ही गुरमीत राम रहीम को चार्जशीट किया हुआ है.

    बरगाड़ी बेअदबी से जुड़ी तीन घटनाओं में से पावन स्वरूप चोरी केस में एसआईटी ने पहले से ही गुरमीत राम रहीम को चार्जशीट किया है. पंजाब पुलिस की एसआईटी ने हाल ही में पावन स्वरूप चोरी करने व विवादित पोस्टर लगाने की घटनाओं में डेरा सच्चा सौदा के छह अनुयायियों को गिरफ्तार किया था. इन आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल की जा चुकी है, जबकि पावन स्वरूप चोरी करने की घटना में एसआईटी ने जुलाई 2020 में सात डेरा अनुयायियों को गिरफ्तार किया था और पूछताछ खत्म होने के कुछ दिन बाद ही इन सातों अनुयायियों के अलावा डेरे की राष्ट्रीय कमेटी के तीन सदस्यों व डेरा प्रमुख के खिलाफ अदालत में चार्जशीट दाखिल की थी.

    उस समय तक यह केस सीबीआई के पास था और पूरा विवाद पंजाब-हरियाणा उच्च न्यायालय पहुंचा। लंबी कानूनी प्रक्रिया के बाद इसी साल जनवरी में उच्च न्यायालय ने बरगाड़ी बेअदबी मामलों की पड़ताल का अधिकार सीबीआई से वापस लेकर पंजाब पुलिस को सौंप दिया. जांच हाथ में आने के बाद हाल ही में पंजाब पुलिस ने बेअदबी से जुड़ी बाकी दोनों घटनाओं पावन स्वरूप की बेअदबी करने व विवादित पोस्टर मामले में भी डेरा अनुयायियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी है और उच्च न्यायालय के निर्देश के मुताबिक पावन स्वरूप चोरी मामले में अभी पूरक चालान पेश किया जाना बाकी है.

    Tags: Gurmeet Ram Rahim, Gurmeet Ram Rahim Singh, HighCourt

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर