बरोदा विधानसभा उपचुनाव की मतदान तिथि घोषित, तमाम सियासी दल चुनावी तैयारी में जुटे

3 नवंबर को मतदान, 10 को परिणाम
3 नवंबर को मतदान, 10 को परिणाम

Baroda Assembly By-election: चुनाव कार्यक्रम घोषित करते ही प्रदेश में सियासी पारा एक बार फिर चरम पर है

  • Share this:
चंडीगढ़. सोनीपत जिले की बरोदा विधानसभा के उपचुनाव की घोषणा होते ही बीजेपी कांग्रेस इनेलो और जज्बा समेत तमाम दल सक्रिय हो गए हैं बरोदा विधानसभा सीट (Baroda assembly seat) के उपचुनाव के लिए 3 नवंबर को वोट डाले जाएंगे जबकि 10 नवंबर को चुनाव के नतीजेे सामने आएंगे. चुनाव आयोग के द्वारा चुनाव कार्यक्रम घोषित करते ही प्रदेश में सियासी पारा एक बार फिर चरम पर है और सभी दल बरोदा में अपनी-अपनी जीत का दावा ठोक रहे हैं. सत्तारूढ़ दल भाजपा (BJP) ने भी अपनी तैयारी शुरू कर दी है.

मंगलवार को चंडीगढ़ में प्रदेश बीजेपी के कार्यालय में संगठन की एक बैठक हुई जिसकी अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ ने की . बैठक में बीजेपी के राज्य महामंत्री राजीव भाटिया, संगठन महामंत्री सुरेश भट्ट, राज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा, प्रदेश महामंत्री संजय जोशी सहित कई लोगों ने हिस्सा लिया.

बैठक के बाद हरियाणा बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने बताया कि बीजेपी ने घोषणा से पहले ही बरोदा उपचुनाव की तैयारियां की हुई है.  चुनाव प्रभारी जयप्रकाश दलाल और पार्टी के तमाम नेता बरोदा हलके का दौरा कर रहे हैं. पार्टी कैंडिडेट पर पूछे गए सवाल पर ओपी धनखड़ ने कहा कि बीजेपी में इलेक्शन कमेटी में सभी प्रत्याशियों पर विचार होता है. उसके बाद एक सूची केंद्र को भेजी जाती है जहां पर पर अंतिम मुहर लगती है.



उन्होंने कहा कि बरोदा चुनाव बीजेपी पार्टी के लिए एक अवसर है. जो कांग्रेस के झूठ का पर्दाफाश कर देगी. क्योंकि जब तक बरोदा में चुनाव होंगे तब तक प्रदेश में धान और बाकी फसलों की खरीद का काम पूरा हो जाएगा. प्रदेश अध्यक्ष ओपी धनखड़ ने कहा कि बीजेपी ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से धान पर लगी सीमा को खत्म करने की मांग की है. जिसके तहत किसानों का सारा धान खरीदा जाएगा. सरकार जल्द ही फैसला कर लेगी. उन्होंने कहा कि धान खरीद के लिए सारा पैसा केंद्र सरकार की तरफ से आता है. इसके बदले सरकार को मार्केटिंग फीस और आढ़तियों को उनका कमीशन भी मिलता है.
ओपी धनखड़ ने कहा कि पिछले 6 साल के कार्यकाल के दौरान बीजेपी सरकार ने बरोदा में बहुत विकास करवाए हैं. दो कॉलेज खोले गए हैं, एक यूनिवर्सिटी की स्थापना की जाएगी. इसके अलावा एक इंडस्ट्रियल मॉडल टाउनशिप भी बनाई जाएगी. गांव की गलियों और सड़कों को पक्का किया गया. कई गांव में जलभराव की समस्या थी. उसका भी समाधान किया गया है.

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने हमेशा परिवारवाद की राजनीति की है. पिछले लोकसभा के लोकसभा चुनाव में सोनीपत से खुद और रोहतक से अपने बेटे को लगाया था. लेकिन दोनों ही दोनों को ही शिकस्त मिली.  इसके बाद राज्यसभा के चुनाव में भी हुड्डा ने अपने बेटे को तरजीह दी, जबकि बीजेपी इसके उलट एक आम कार्यकर्ता को आगे बढ़ाती है.

किसान नेता गुरनाम सिंह की तरफ से अधिक नमी वाले धान की खरीद की मांग को उन्होंने पूरी तरीके से राजनीतिक बताया. धनखड़ ने कहा कि गुरनाम सिंह आढती नेता है. राजनीति करते हैं और कई बार चुनाव भी लड़ चुके हैं. उन्हें किसानों के हितों से कोई वास्ता नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज