Home /News /haryana /

भूपेंद्र हुड्डा बोले- बारिश के कारण मंडियों में फसलें हो रहीं नष्ट, सरकार चुपचाप देख रही तमाशा

भूपेंद्र हुड्डा बोले- बारिश के कारण मंडियों में फसलें हो रहीं नष्ट, सरकार चुपचाप देख रही तमाशा

उन्होंने दावा किया, ‘‘बारिश में उनकी फसल पूरी तरह भींग रही है जबकि सरकार मूकदर्शक बनकर देख रही है.’’ (फाइल फोटो)

उन्होंने दावा किया, ‘‘बारिश में उनकी फसल पूरी तरह भींग रही है जबकि सरकार मूकदर्शक बनकर देख रही है.’’ (फाइल फोटो)

हरियाणा विधानसभा (Haryana Legislative Assembly) में विपक्ष के नेता ने यहां बयान जारी कर कहा कि पिछले हफ्ते दो दिनों की बारिश में लाखों क्विंटल धान की फसल बर्बाद हो गई.

    चंडीगढ़. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा (Bhupendra Singh Hudda) ने मंगलवार को कहा कि बारिश (Rain) के कारण मंडियों (Mandis) में किसानों की फसलें नष्ट हो रही हैं. लेकिन हरियाणा सरकार न तो उन्हें उठा रही है न ही अपने उत्पाद को ढंकने के लिए किसानों को तिरपाल मुहैया करा रही है. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि एक तरफ किसान मंडियों में अपनी उपज बेचने के लिए कतारबद्ध हैं, वहीं दूसरी ओर डीएपी खाद के लिए उन्हें भाग-दौड़ करनी पड़ रही है. हरियाणा विधानसभा (Haryana Legislative Assembly) में विपक्ष के नेता ने यहां बयान जारी कर कहा, ‘‘पिछले हफ्ते दो दिनों की बारिश में लाखों क्विंटल धान की फसल बर्बाद हो गई. फसल उठाने में विलंब होने, लापरवाही एवं भाजपा-जजपा सरकार के कुप्रबंधन के कारण किसानों को नुकसान उठाना पड़ रहा है.’’ उन्होंने दावा किया, ‘‘बारिश में उनकी फसल पूरी तरह भींग रही है जबकि सरकार मूकदर्शक बनकर देख रही है.’’

    वहीं, कल खबर सामने आई थी कि बदलते मौसम की पहली बरसात के कारण किसानों को सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ा है. बरसात से जहां एक ओर खेतों में खड़ी तैयार फसल भीगी, तो वहीं मंडी में ब्रिकी के लिए आई फसल भी भीग गई. अपनी फसल को यूं इस तरह बरसात में भीगा देख किसान परेशान हो गया. वहीं, सरकार द्वारा खरीदा गया धान जो बोरियों में भर कर रखा हुआ था वो भी भीग गया. मंडी के सचिव के मुताबिक, मंडियों में बोरियों में भरकर रखा हुआ धान के रखरखाव की जिम्मेवारी आढती की है. छावनी की अनाज मंडी में रविवार को अराइवल कम होने के कारण लिफ्टिंग का काम तेजी से चल रहा है.

    खरीद शुरू कर देता तो किसानों को फायदा होता
    वहीं, धान बेचने आए किसान ने बताया कि सरकार ने शेड किसानों के लिए बनाए हैं, परंतु इसके नीचे सरकार द्वारा खरीदा गया धान रखा हुआ है. उन्होंने कहा कि हमें मजबूरन अपने धान को खुले में सुखाना पड़ता है. आज की बरसात में हमारा सारा धान जो सूखने के लिए डाला गया था भीग गया और हमारा काफी नुकसान हुआ है. इसका कारण सरकार की लेट खरीदारी शुरू करना है जिसका खामियाजा हम किसानों को भुगतना पड़ रहा है. यदि सरकार समय पर धान की खरीद शुरू कर देता तो किसानों को फायदा होता.

    (इनपुट- भाषा)

    Tags: Bhupendra Singh Hooda, Chandigarh news, Farmer, Haryana news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर