हरियाणा के 17 जिलों में इंटरनेट और SMS सर्विस पर लगा बैन बढ़ा, आज शाम 5 बजे तक रहेगी रोक

किसान आंदोलन को लेकर किसी प्रकार के अफवाहों पर विराम लगाने के लिए सरकार ने हरियाणा के 17 जिलों में मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस सर्विस पर रोक लगा रखी है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

गृह सचिव ने शनिवार को प्रदेश के सत्रह जिलों में इंटरनेट और एसएमएस सेवा (Mobile Internet And SMS Ban) की निलंबन अवधि बढ़ाने का आदेश दिया. 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर दिल्ली में हुई किसानों की ट्रैक्टर परेड (Tractor Rally) में हुई हिंसा के तांडव के बाद हरियाणा के सत्रह जिलों में मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस पर बैन लगा दिया गया था

  • Share this:
    चंडीगढ़. हरियाणा (Haryana) के सत्रह जिलों में मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस (Mobile Internet And SMS) सर्विस पर लागू पाबंदी बढ़ा दी गई है. शनिवार को गृह सचिव ने प्रदेश के सत्रह जिलों में इंटरनेट और एसएमएस सेवा (Mobile Internet And SMS Ban) को 31 जनवरी की शाम पांच बजे तक के लिए बढ़ाने का आदेश दिया है. 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर दिल्ली में हुई किसानों की ट्रैक्टर परेड (Tractor Rally) में हुई हिंसा के तांडव के बाद हरियाणा के सत्रह जिलों में मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस पर बैन लगा दिया गया था.

    जिन जिलों में यह पाबंदी लागू है उनके नाम- अंबाला, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, कैथल, पानीपत, हिसार, जींद, रोहतक, भिवानी, दादरी, रेवाड़ी, फतेहाबाद, सोनीपत, झज्जर, पलवल और सिरसा हैं. अभी तक इन जिलों में 29 जनवरी से 30 जनवरी की शाम पांच बजे तक इंटरनेट और एसएमएस सेवाओं पर अस्थायी निलंबन के आदेश जारी किए गए थे.



    बता दें कि मंगलवार 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किला और दिल्ली में कई जगहों पर हिंसा और उपद्रव हुआ था. किसानों के रूप में आए हुड़दंगियों के मचाए उत्पात में दिल्ली पुलिस के लगभग 300 कर्मी जख्मी हुए हैं. साथ ही बड़े पैमाने पर सरकारी संपत्ति का भी नुकसान हुआ है.

    घटना वाले दिन देर शाम दिल्ली से सटे हरियाणा के तीन जिलों- झज्जर, सोनीपत और पलवल में सबसे पहले मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस सेवाएं ूबाधित करने का आदेश जारी किया गया था. बाद में शुक्रवार को राज्य के 14 अन्य जिलों में भी ऐसी ही पाबंदी लगा दी गई थी. यह पाबंदी इसलिए लगाई गई है ताकि किसानों के आंदोलन और ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा से जुड़ी अफवाहों पर विराम लगाया जा सके.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.