हरियाणा सरकार ने किसानों को दी राहत, बाजरा खरीद की समय सीमा 27 नवंबर तक बढ़ाई

इस साल हरियाणा में बाजरे की बंपर फसल हुई है (प्रतीकात्मक तस्वीर)
इस साल हरियाणा में बाजरे की बंपर फसल हुई है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

राज्य के खाद्य एवं आपूर्ति विभाग (Food And Supply Department) के ACS पी.के दास ने बताया कि इस बार बाजरे की फसल (Millet Produce) पिछले साल के मुकाबले बड़ी मात्रा में आई है. न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर बाजरे की खरीद के चलते बड़ी मात्रा में मंडियों में बाजरे की फसल आ रही है

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2020, 9:27 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने बाजरा किसानों (Millet Farmers) को बड़ी राहत देते हुए बाजरा खरीद की समय सीमा 27 नवंबर तक बढ़ा दी है. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग (Food And Supply Department) के ACS पी.के दास ने बताया कि इस बार बाजरे की फसल पिछले साल के मुकाबले बड़ी मात्रा में आई है. न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर बाजरे की खरीद के चलते बड़ी मात्रा में मंडियों में बाजरे की फसल आ रही है. पिछले सीजन में पौने चार लाख टन बाजरे की फसल की खरीद की गई थी, इस बार करीब अभी तक छह लाख टन फसल खरीदी जा चुकी है. जबकि अभी भी 39 हजार के करीब बाजरे के किसानों की रिशिड्यूलिंग होनी बाकी है.

दास ने बताया कि इस बार धान की फसल पिछले साल के मुकाबले 10 लाख टन कम आई है. इस बार 54 लाख टन धान की फसल की खरीद हुई है जबकि पिछ्ले सीजन में 64 लाख टन धान की फसल खरीदी गई थी. उन्होंने कहा सरकार ने धान मिलों पर जो कार्रवाई की थी उसके चलते गड़बड़ी रुकी है, इसी का नतीजा है इस बार दस लाख टन फसल कम हुई है. उन्होंने कहा धान के किसानों को अब तक साढ़े नौ हजार करोड़ रुपयों की पेमेंट हो चुकी है. लेकिन 48 हजार किसानों की पेमेंट गलत खातों की जानकारी के कारण अभी भी अटकी हुई है, इसके लिए अधिकारियों को किसानों से संपर्क कर के खातों की सही जानकारी जुटाने के लिए कहा गया है.

दास के मुताबिक अब तक हरियाणा सरकार द्वारा किसानों को धान की साढ़े नौ हजार करोड़ रुपए की पेमेंट की जा चुकी है. वहीं डेढ़ करोड़ हजार करोड़ की पेमेंट अभी भी बकाया है. उन्होंने कहा कि अब तक धान की खरीद लगभग हो चुकी है और धान की फसल खरीद की समय सीमा बढ़ाने का कोई विचार नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज