4 घंटे बाद बहाल हुआ चंडीगढ़-मनाली हाईवे, लैंडस्लाइड की चपेट में आ गए थे 4 वाहन

भारी बारिश के कारण नाले से होते हुए यह मलबा हाईवे पर आ गया है. हाईवे अवरूद्ध होने से दोनों तरफ गाडि़यां फंसी गई थी.

News18 Himachal Pradesh
Updated: June 15, 2018, 10:13 AM IST
4 घंटे बाद बहाल हुआ चंडीगढ़-मनाली हाईवे, लैंडस्लाइड की चपेट में आ गए थे 4 वाहन
मंडी के हणोगी के पास बारिश के बाद मलबा सड़क पर आ गया है.
News18 Himachal Pradesh
Updated: June 15, 2018, 10:13 AM IST
हिमाचल प्रदेश में मंडी जिले में करीब चार घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद चंडीगढ़-मनाली नेशनल हाईवे 21 को वाहनों की आवाजाही के लिए बहाल कर दिया गया.

गुरुवार दोपहर बाद मौसम ने करवट बदली और हणोगी तथा इसके आसपास के कुछ इलाकों में मूसलाधार बारिश हुई. बारिश के कारण हणोगी के पास भूस्खलन होने के कारण पहाड़ी से भारी मलबा नेशनल हाईवे पर आ गया और एनएच वाहनों की आवाजाही के लिए पूरी तरह से बंद हो गया. मलबा आने के कारण करीब चार वाहन इसकी चपेट में आए, जिन्हें नुकसान पहुंचा है.

हालांकि इसमें किसी को न तो कोई चोट लगी और न ही कोई जानी नुकसान हुआ. कड़ी मशक्कत के बाद यहां से मलबा हटाया गया. लेकिन इस दौरान थोड़ा आगे रैंसनाला के पास फिर से भूस्खलन होने से भारी मलबा एनएच पर आ गिरा. सारी मशीनरी दूसरे स्थान पर भेजकर मलबा हटाने का काम शुरू किया गया.

काफी जद्दोजहद के बाद यहां से मलबा हटाकर एनएच को वाहनों की आवाजाही के लिए सुचारू किया जा सका. फोरलेन का काम कर रही अशोक चौहान एंड कंपनी ने अपनी मशीनरी को मलबा हटाने के लिए लगा दिया था, जिससे काफी जल्दी इस मलबे को हटाया जा सका। करीब चार घंटों तक एनएच के दोनों तरफ वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गई और हजारों वाहन लंबे समय तक यहीं पर फंसे रहे.

हाईवे से सावधानी से गुजरें : एसडीएम
एसडीएम सदर डा. मदन कुमार ने बताया कि करीब चार घंटों के बाद नेशनल हाईवे को पूरी तरह से बहाल कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि मलबे की चपेट में 3 से 4 वाहन आए हैं और किसी प्रकार का कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है। उन्होंने लोगों से एनएच पर सावधानी से गुजरने की अपील की है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर