CM खट्टर बोले- हरियाणा सरकार प्रवासियों को बस और ट्रेनों के जरिए उनके गृह राज्य में भेजेगी

इससे पहले उन्होंने मीडियाकर्मियों से कहा था कि हरियाणा सरकार राज्य के कैंसर रोगियों को अपनी सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना के दायरे में लाने पर विचार कर रही है.  (फाइल फोटो)
इससे पहले उन्होंने मीडियाकर्मियों से कहा था कि हरियाणा सरकार राज्य के कैंसर रोगियों को अपनी सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना के दायरे में लाने पर विचार कर रही है. (फाइल फोटो)

बैठक में यह फैसला किया गया कि उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), राजस्थान, पंजाब, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के प्रवासियों को बसों के जरिए भेजा जाएगा

  • Share this:
चंडीगढ. हरियाणा सरकार (Haryana Government ) ने फैसला किया है कि उसकी सीमा से सटे राज्यों के प्रवासी मजदूरों को बसों के जरिए जबकि अन्य राज्यों के मजदूरों को ट्रेन से भेजा जाएगा. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) ने रविवार को यह बात कही. एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, विभिन्न दलों के श्रमिक संगठनों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के दौरान खट्टर ने कहा कि हरियाणा सरकार राज्य में फंसे सभी प्रवासी मजदूरों की जल्द से जल्द सकुशल घर वापसी सुनिश्चित करने को लेकर प्रतिबद्ध है.

बयान के मुताबिक, बैठक में यह फैसला किया गया कि उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के प्रवासियों को बसों के जरिए भेजा जाएगा और बिहार, झारखंड और मध्य प्रदेश के मजदूरों को विशेष श्रमिक ट्रेनों के जरिए भेजा जाएगा. खट्टर ने शनिवार को प्रवासी मजदूरों से हरियाणा से नहीं जाने और जिन उद्योगों में काम की अनुमति दी जा चुकी उनमें काम शुरू करने की अपील की थी.

हरियाणा सरकार ने एक वेब पेज की शुरूआत की है
हालांकि, उन्होंने साफ किया था कि इसके बावजूद अगर कोई अपने गृह स्थान जाना चाहता है तो राज्य सरकार उनकी वापसी का प्रबंध करेगी. बयान के मुताबिक, रविवार की कॉन्फ्रेंस में सर्वसम्मति बनी कि औद्योगिक मजदूरों को इकाइयों को दोबारा शुरू करने में सहायता करने को लेकर उत्साहित किया जाएगा. उधर, हरियाणा सरकार ने एक वेब पेज की शुरूआत की है, जहां घर वापस जाने के इच्छुक प्रवासी मजदूर अपना पंजीकरण करा सकते हैं.
उपयोगी कार्य में संलग्न रहने का प्रयास करना चाहिए


खट्टर ने यह भी कहा कि प्रवासियों को सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करते हुए उपयोगी कार्य में संलग्न रहने का प्रयास करना चाहिए और वापस भेजे जाने का प्रबंध होने तक नए कौशल को सीखना चाहिए. साथ ही कहा कि यह सुनिश्चित किया जाएगा कि कोई भी भूखा नहीं रहे.

ये भी पढ़ें- 

बुलंदशहर: योगी सरकार शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा के परिवार को देगी 50 लाख और नौकरी

मुस्लिम धर्मगुरु की अपील, सादगी से मनाएं 'ईद' और बजट का 50 फीसदी करें दान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज