हरियाणा सरकार से कांग्रेस ने पूछा- शनिवार-रविवार 'लॉकडाउन' तो कैसे खुले शराब ठेके?
Chandigarh-City News in Hindi

हरियाणा सरकार से कांग्रेस ने पूछा- शनिवार-रविवार 'लॉकडाउन' तो कैसे खुले शराब ठेके?
कांग्रेस ने हरियाणा सरकार पर निशाना साधा है. (प्रतीकात्मक फोटो)

कुमारी सैलजा (Kumari Sailja) का कहना है कि कोरोना महामारी (COVID-19) के बीच हरियाणा सरकार (Haryana Government) को शराब बिक्री की चिंता सता रही है. शराब आवश्यक वस्तु की श्रेणी में कैसे आ सकती है?

  • Share this:
चंडीगढ़. हरियाणा कांग्रेस (Congress) अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है. कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार द्वारा शनिवार और रविवार को दुकानों व कार्यालयों को बंद रखने के फैसले के बीच शराब के ठेकों के खुले रहने को लेकर हैरानी जताई है. उन्होंने कहा कि एक तरफ सरकार व्यापारियों और दुकानदारों का रोजगार चौपट करवा कर रही है. वहीं दूसरी ओर शराब के ठेके खोलने की अनुमति देना इस सरकार के दोहरे चरित्र को उजागर करता है.

हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि हरियाणा सरकार कोरोना संक्रमण पर काबू पाने में पूरी तरह से नाकाम रही है. इतना समय बीतने के बाद जब कोरोना प्रदेश में अपने पांव पसार चुका है, अब सरकार को दोबारा शनिवार और रविवार को प्रदेश में दुकानों व कार्यालयों को बंद रखने का फैसला लेना पड़ रहा है. सरकार द्वारा दुकानें और कार्यालय बंद रखने के फैसले के बीच प्रदेश में शराब के ठेके खुले रहना हैरान करने वाला है.

कांग्रेस ने जताई चिंता



कुमारी सैलजा ने कहा कि कोरोना महामारी की शुरुआत से ही प्रदेश सरकार को शराब बिक्री की चिंता सता रही है. शराब कैसे आवश्यक वस्तु की श्रेणी में आ सकती है. हमने पहले भी देखा कि किस तरह से शराब के ठेकों पर लॉकडाउन के बीच भी भारी भीड़ उमड़ी थी. एक तरफ सरकार व्यपारियों और दुकानदारों का रोजगार चौपट करवा कर रही है, वहीं दूसरी ओर शराब के ठेके खोलने की अनुमति देना इस सरकार के दोहरे चरित्र को उजागर करता है.
ये भी पढ़ें: काशी का अनोखा चित्रकार, आंखों में पीली पट्टी बांधकर कैनवास पर बनाते हैं सुंदर गणपति

कुमारी सैलजा ने कहा कि अभी कुछ महीने पहले ही लॉकडाउन के बीच प्रदेश में शराब घोटाले को अंजाम दिया गया था जिसमें बड़े-बड़े सफ़ेदपोश और अधिकारियों की संलिप्तता सामने आई. वहीं अब सरकार द्वारा इस नए फैसले में शराब के ठेकों को खोलने की इजाजत देना, बड़े सवाल खड़े कर रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज