Home /News /haryana /

सीएम बनने का सपना देख रहे थे कांग्रेस के ये दिग्गज, लोकसभा चुनाव हारे

सीएम बनने का सपना देख रहे थे कांग्रेस के ये दिग्गज, लोकसभा चुनाव हारे

कांग्रेस के नेता

कांग्रेस के नेता

कांग्रेस के सभी दिग्गज भाजपा के चक्रव्यूह में फंसकर परास्त हो गए. ये वे दिग्गज थे जो खुद को कांग्रेस के भावी सीएम के रूप में पेश करते हैं.

    लोकसभा चुनावों में चली मोदी की सुनामी ने हरियाणा में कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया. इसके साथ ही मुख्यमंत्री बनने का सपना देख रहे कांग्रेस के दिग्गज नेता लोकसभा चुनाव में पुरी तर हार गए. सूबे में जो कांग्रेसी नेता भावी मुख्यमंत्री की दौड़ में थे, उन पर हाईकमान ने दांव खेला दिया था. कांग्रेस के सभी दिग्गज भाजपा के चक्रव्यूह में फंसकर परास्त हो गए. ये वे दिग्गज थे जो खुद को कांग्रेस के भावी सीएम के रूप में पेश करते हैं.

    हुड्डा के दावों की निकली हवा

    दो बार के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा को हाईकमान ने सोनीपत से उतारा था. हुड्डा ने मंच से दावा भी कर दिया था कि इस बार वे सोनीपत से दिल्ली और दिल्ली से चंडीगढ़ का रास्ता तय करेंगे. लेकिन भाजपा के उलटफेर के आगे हुड्डा बेदम हो गए और भाजपा प्रत्याशी रमेश चंद कौशिक से 164864 वोटों से हार गए.

    भूपेंद्र हुड्डा के बेटे भी नहीं बचा पाए सीट

    भूपेंद्र सिंह हुड्डा को दूसरा झटका रोहतक में लगा जब उनके तीन बार के सांसद बेटे अपनी सीट भी नहीं बचा पाए. वह भी रोहतक सीट से भाजपा प्रत्याशी अरविंद शर्मा से कड़े मुकाबले में हार गए. अब इसी हार ने बतौर लोकसभा चुनाव समन्वय समिति हरियाणा के चेयरमैन भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व पर भी सवाल खड़ा कर दिया है.

    ये भी देख रहे थे सीएम बनने का सपना

    इसके अलावा भावी सीएम के अन्य दावेदार दिग्गजों में जहां हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अशोक तंवर सिरसा सीट से 3 लाख से अधिक वोटों के अंतर से हारे तो वहीं पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव को गुरुग्राम सीट से पौने चार लाख से अधिक वोटों के अंतर से हार का मुंह देखना पड़ा.

    भावी सीएम की रेस में विधायक कुलदीप बिश्नोई और सीएलपी लीडर किरण चौधरी को उनके बच्चों की हार मायूस कर गई. विधायक दंपती कुलदीप बिश्नोई और रेणुका बिश्नोई अपने ही गढ़ में अपने बेटे भव्य बिश्नोई को नहीं जिता पाए. जीतना तो दूर भव्य 4 लाख से अधिक वोटों से पिछड़कर तीसरे स्थान पर रहे.

    ये भी पढ़ें-

    12 दिन से गायब बच्चे को परिजनों ने खुद तलाशा तो इस हाल में मिला बच्चा 

    वोटों की गिनती के बाद इसलिए ईवीएम को 45 दिन रखा जाता है अंधेरें में

    पेट्रोल पंप पर अब इस नए तरीके से शुरू हुई तेल की चोरी, एसटीएफ करेगी जांच

    Tags: Congress, Haryana Lok Sabha Elections 2019, Haryana politics

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर